शिक्षा मंत्री के खिलाफ भाजपा और हिंदूवादी संगठनों का फूटा गुस्सा, विवादित बयान के खिलाफ निकाला आक्रोश मार्च

शिक्षा मंत्री के खिलाफ भाजपा और हिंदूवादी संगठनों का फूटा गुस्सा, विवादित बयान के खिलाफ निकाला आक्रोश मार्च

नवादा. रामचरितमानस पर विवादित टिप्पणी करने वाले शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर के खिलाफ भाजपा और हिंदूवादी संगठनों का रविवार को गुस्सा फूट पड़ा. नवादा में भाजपा सहित विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल, एबीवीपी सहित तमाम हिंदू संगठन के लोगों ने एक साथ मिलकर आक्रोश मार्च निकाला. प्रदर्शनकारियों ने शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर का प्रजातंत्र चौक पर पुतला दहन किया। आक्रोश मार्च की अध्यक्षता करते हुए भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष संजय कुमार मुन्ना ने बिहार सरकार से मांग कि मुखमंत्री नीतीश कुमार जल्द से जल्द शिक्षा मंत्री को बर्खास्त करे। वहीं सड़कों पर नारा लगा कि जो हिंदू से टकराएगा वह चूर- चूर हो जाएगा, जो हिंदू की बात करेगा वही देश पर राज करेगा नारे के साथ सड़कों पर शिक्षा मंत्री के प्रति लोगों ने जबरदस्त आक्रोश दिखाया. 

जिला अध्यक्ष ने कहा कि शिक्षा मंत्री ने हिंदू धर्म के भावना के साथ खिलवाड़ किया है. सनातन धर्म पर आघात किया है. यह सनातनी धर्म का घोर अपमान है. यह कहीं से सही नहीं है। इन्हें सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए. इनकी ऐसी मानसिकता से यह साबित होता है , अपनी सत्ता की स्वार्थ राजनीति के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं।  

शिक्षा मंत्री रामचरितमानस को लेकर दिए गए अपना बयान वापस लें। बार-बार एक विशेष वर्ग को खुश करने के लिए प्रभु राम और रामचरितमानस जैसे पवित्र ग्रंथ एवं संघ परिवार पर बयानबाजी उचित नहीं है। शिक्षा मंत्री को रामचरिमानस को पढ़ने की आवश्यकता है। रामचरितमानस को सही ढंग से पढ़े , इतने बड़े पद पर सुशोभित होते हुए इस तरह के बयान बाजी देना इनके लिए दुर्भाग्यपूर्ण बात है । शिक्षा मंत्री के बयान को एक अज्ञानी का बयान बताया है। 

उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर को अपने विवादित बयान के लिए माफी मांगनी होगी। अधम का अर्थ नीच होता है जो कि अपने कर्मों से होता है चाहे वो किसी जाति का हो, प्रभु श्रीराम तो सभी के प्रभु हैं । उन्होंने कहा कि मंत्री को हिम्मत है तो वह कुरान शरीफ पर इस तरह का टिप्पणी करके देखें तो उनकी क्या हाल होता. 


Find Us on Facebook

Trending News