मौजूदा सत्र में ही हो जातिगत जनगणना कराने की घोषणा, तेजस्वी ने मुख्यमंत्री से की बड़ी मांग, कहा - अब देर सही नहीं

मौजूदा सत्र में ही हो जातिगत जनगणना कराने की घोषणा, तेजस्वी ने मुख्यमंत्री से की बड़ी मांग, कहा - अब देर सही नहीं

PATNA : बिहार में शीतकालीन सत्र के दौरान जातिगत जनगणना के मुददे को एक बार फिर से तेजस्वी यादव ने उठा दिया है। भोजनावकाश में मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए तेजस्वी ने कहा किदोनों सदन से जातिगत जनगणना को लेकर प्रस्ताव पारित किया गया। पिछले मानसून सत्र में हमने प्रस्ताव रखा था। सर्वदलीय सदस्यों ने पीएम से की थी मुलाकात, लेकिन कल केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने संसद में कहा  कि वह जातिगत जनगणना नहीं कराएंगे। 

तेजस्वी ने कहा सीएम को हमने प्रस्ताव दिया था कि अगर भारत सरकार मना कर रही है तो राज्य सरकार अपने खर्च पर जातिगत जनगणना कराए। तेजस्वी ने कहा कि हमारी मांग है कि मौजूदा शीतकालीन सत्र में बिहार सरकार इस बात की घोषणा करे कि वह अपने खर्च कराने की घोषणा करे। तेजस्वी ने कहा कि कब तक आंख मूंदकर योजनाओं पर खर्च किया जाएगा। अब समय है कि प्रदेश में किस जाति के कितने लोग हैं, उसके आधार पर योजना बनाई जाए। इसके लिए जरुरी है कि अब नीतीश कुमार जी पहल करें।

सीएम की ली चुटकी 

इस दौरान तेजस्वी ने नीतीश कुमार के उन बयानों पर भी चुटकी ली, जिसमें उन्होंने कहा था कि वह सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं करते हैं। तेजस्वी ने कहा कि मेरे घर और नीतीश कुमार के घर में सिर्फ कुछ मीटर की दूरी है। मैं जब भी कोई चिट्टी उन्हें भेजता हूं, तो सबसे पहले वहां से रिसिव्ड लेटर लिया जाता है। इसके बाद ही ट्विटर फेसबुक पर पोस्ट की जाती है। लेकिन इसके बाद भी वह कहते है कि उन्हेँ कोई जानकारी नहीं होती है। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार को यह सब सीखना पड़ेगा, क्योंकि इसके बिना काम नहीं चलेगा। हम सब सीख रहे हैं। उन्हें भी सीखना चाहिए।




Find Us on Facebook

Trending News