केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने यूपीए सरकार से की तुलना, कहा- मोदी सरकार लगातार बिहार के हालात बदलने की प्रतिबद्धता के साथ कर रही है काम

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने यूपीए सरकार से की तुलना, कहा- मोदी सरकार लगातार बिहार के हालात बदलने की प्रतिबद्धता के साथ कर रही है काम

बिहार: बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण के बाद बीजेपी चुनावी क्षेत्र में और अधिक जोश और जूनून के साथ मैदान में उतरती नजर आ रही है. केन्द्रीय वित्त एवं कॉर्पोरेट मामलों के राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा है कि मोदी सरकार लगातार बिहार के हालात बदलने की प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है. केंद्र सरकार ने यूपीए सरकार  के कार्यकाल की तुलना में बिहार की तरक्की के लिए तमाम योजनाओं के जरिए दोगुने से अधिक धन आवंटित किया है. अनुराग ठाकुर ने ये बातें बिहार विधान सभा चुनाव प्रचार के दौरान कहीं.

अनुराग सिंह ठाकुर ने बीजेपी की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा  बिहार की तरक्की के लिए मोदी सरकार ने 2014-2019 के दौरान बिहार को 1,09,642 करोड़ रुपये अनुदान राशि प्रदान की, जबकि यूपीए ने 2009-14 के दौरान मात्र 50,008 करोड़ रुपये अनुदान दिया. उन्होंने दावा किया कि यूपीए द्वारा बिहार को दी गई धनराशि की तुलना में केंद्र की मोदी सरकार ने 119 प्रतिशत की वृद्धि की है.

अनुराग ठाकुर ने कहा, कर निर्धारण के माध्यम से 2014-2019 के दौरान मोदी सरकार ने बिहार को 2,83,452 करोड़ रुपये की ऐतिहासिक राशि प्रदान की. यह राशि यूपीए कार्यकाल में 2009-14 के दौरान 1,36,845 करोड़ रुपये की तुलना में लगभग 107 प्रतिशत अधिक है. उन्होंने कहा, कर निर्धारण और अनुदान सहायता के माध्यम से 2020-21 के दौरान बिहार के लिए बजट क्रमशः 78,896 करोड़ रुपये और 52,754 करोड़ रुपये है.

कोरोना महामारी के बीच लोगों को दी राहत

केंद्रीय मंत्री ने कहा, कोरोनाकाल के दौरान गरीबों की मदद करने के लिए सरकार ने तमाम योजनाएं शुरू कीं. बिहार में सबसे अधिक लाभ प्रधानमंत्री जन धन योजना से हुआ है. यहां 2.4 करोड़ से अधिक लाभार्थियों के खातों में सीधे 500 रुपये की तीन किश्तें दी गईं. उन्होंने दावा किया, प्रत्येक लाभार्थी के बैंक खातों में रुपये पहुंचने से कोरोनो वायरस महामारी के दौरान लोगों को राहत मिली.ठाकुर ने कहा, राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम के तहत 36 लाख से अधिक लाभार्थियों को राहत प्रदान की गई. इस योजना के जरिए विधवाओं, दिव्यांगों और वरिष्ठ नागरिकों को 1,000 रुपये दिए गए. उन्होंने कहा, हमने समाज के हर वर्ग का ध्यान रखा है, खासकर कमजोर वर्ग का.

Find Us on Facebook

Trending News