बेटे की रिहाई के लिए दर दर गुहार लगा रही बूढ़ी माँ, कहा झूठे मुकदमे में फंसाया गया

बेटे की रिहाई के लिए दर दर गुहार लगा रही बूढ़ी माँ, कहा झूठे मुकदमे में फंसाया गया

GAYA : शहर के रामपुर थाना क्षेत्र के मुस्तफाबाद मोहल्ला निवासी शारदा देवी जेल में बंद अपने बेटे सामू यादव को इंसाफ दिलाने के लिए अधिकारियों के कार्यालयों का चक्कर लगा रही है. बूढ़ी मां बेटे की रिहाई के लिए दर-दर भटक रही है. लेकिन कोई भी अधिकारी सुनने को तैयार नहीं है.

इस संबंध में शारदा देवी ने कहा कि एक साजिश के तहत उनके बेटे को एक व्यक्ति को गोली मारने के झूठे इलजाम में जेल भेज दिया गया. इतना ही नहीं जेल में उसे तरह-तरह की यातनाएं दी जा रही है. वे डॉक्टरों की लिखी हुई दवाओं का पर्चा दिखाकर कहती है कि मेरे बेटे की तबीयत खराब है. इसके बावजूद उसके साथ मारपीट की गई. अब जेल प्रशासन के लोग हमें अपने बेटे से मिलने भी नहीं दे रहे. इसे लेकर एसएसपी से लेकर राज्यपाल, डीजीपी व मुख्यमंत्री के अलावा मानवाधिकार आयोग को भी पत्र लिखकर गुहार लगा चुके हैं. लेकिन अभी तक इस दिशा में कुछ नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक एवं पहुंच-पैरवी रखने वाले लोग उनके बेटे को फंसाने में लगे हुए हैं. उनके इशारे पर जेल प्रशासन भी उनके बेटे के साथ दुर्व्यवहार कर रहा है. अब इंसाफ के लिए जाएं भी तो कहां जाएं? उन्होंने अधिकारियों से अपने बेटे की सुरक्षा व इंसाफ दिलाने के लिए गुहार लगाई है. 

वही सामू यादव के बहनोई सुनील कुमार सिन्हा ने कहा कि विगत 17 फरवरी को सामू के ऊपर एक व्यक्ति को गोली मारने का झूठा मुकदमा दर्ज कर पुलिस उन्हें खोजने लगी. जिसके बाद हमलोगों ने सामू से बातचीत कर उसे 22 फरवरी को पुलिस के समक्ष सरेंडर भी करवा दिया. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. अब उसे तरह-तरह की यातनाएं दी जा रही है. उन्होंने कहा कि सामू को हार्ट डिजीज के अलावा और कई तरह की बीमारियां है. लेकिन ना तो उन तक दवा पहुंचाई जा रही है और ना ही चिकित्सकों को दिखाया जा रहा है. हम अधिकारियों से मांग करते हैं सामू को समुचित इलाज कराकर पूरे मामले की जांच कर इंसाफ दिलाया जाए. 

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 


Find Us on Facebook

Trending News