ब्रह्मर्षि समाज के नेताओं की हुंकार, हमें मजबूर वोट समझने की भूल न करें, एकजुट होकर छल करने वाले दलों को सबक सिखाएंगे

ब्रह्मर्षि समाज के नेताओं की हुंकार, हमें मजबूर वोट समझने की भूल न करें, एकजुट होकर छल करने वाले दलों को सबक सिखाएंगे

Patna:बिहार की राजनीति में राजनीतिक दलों द्वारा ब्रह्मर्षि समाज की उपेक्षा के बाद अब गोलबंदी शुरू हो गई है। भूमिहार समाज से जुड़े नेता अब एक प्लेटफार्म पर जुट रहे हैं। ब्रह्मर्षि समाज के नेताओं ने अब एलान कर दिया है हमें मजबूर वोट मत समझें।

पटना में भूमिहार समाज के नेताओं की गोलबंदी के बाद आज मुजफ्फरपुर में ब्रह्मर्षि समाज के नेताओं का जुटान हुआ ।शहर के महेश सिंह साइंस कॉलेज में आयोजित ब्रह्मर्षि चेतना शिविर में नेताओं का जुटान हुआ। पूर्व मंत्री रामजतन सिन्हा, पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस से राज्यसभा सांसद डॉ अखिलेश प्रसाद सिंह, बीजेपी नेता और पूर्व मंत्री सुरेश शर्मा, पूर्व विधायक अवनीश कुमार सिंह, पूर्व सांसद अरुण कुमार,अजित कुमार समेत इस समाज से जुड़े कई बड़े नेता शिरकत किए।

 नेताओं ने कहा की आज हर तरफ से इस समाज के लोगों को दबाया जा रहा है ।स्थिति ये हो गई है आज हम पूरे तौर पर हाशिए पर जा चुके हैं। जबकि इस समाज ने इस राज्य के लिए काफी कुछ दिया है। हर क्षेत्र में हमारे हमारे पुरखों का योगदान है।लेकिन आज हमारी पूछ नहीं। हमारे वोट को मजबूर वोट समझा जाता है। एक दल समझता है कि आखिर भूमिहार समाज के लोग जाएंगे कहाँ। लालू राज में जब उस दल का झंडा उठाने को कोई तैयार नहीं होता था तब भी इसी समाज ने लड़ाई लड़ी।जब सत्ता मिली तो उसने भी इस दल को सिर्फ वोट बैंक समझा और सत्ता से साइड कर दिया।

ब्रह्मर्षि समाज के नेताओं ने कहा कि समय आ गया है कि हम एकजुट हों और अपनी ताकत दिखाएं। हमें मजबूर नहीं समझे कोई। पूर्व विधायक अवनीश कुमार सिंह ने कहा कि आज सभी दल में भूमिहार समाज के लोगों को साइड लाइन किया गया है। भाजपा का झंडा जब कोई नहीं उठाना चाहता था तब हम लोगों ने और हमारे समाज के लोगों ने आगे बढ़कर इसका झंडा बुलंद किया था और लड़ाई लड़ी थी। लेकिन आज सत्ता का मलाई कोई और खा रहा।


Find Us on Facebook

Trending News