BIHAR CRIME: 15 दिनों में 4 मर्डर, 2 चोरी, 3 लूट की घटनाएं, यह है सीएम नीतीश कुमार के ‘ऑल इज वेल’ वाले पटना सिटी का हाल

BIHAR CRIME: 15 दिनों में 4 मर्डर, 2 चोरी, 3 लूट की घटनाएं, यह है सीएम नीतीश कुमार के ‘ऑल इज वेल’ वाले पटना सिटी का हाल

PATNA CITY: बिहार में एक तरफ जहां नीतीश सरकार ‘ऑल इज वेल’ होने की बात कहती है, वही दूसरी तरफ अपराधी यह जता देते हैं कि यहां कुछ भी सही नहीं चल रहा है। कागजों पर भले ही पुलिसिंग, लॉ एंड ऑर्डर सहित तमाम व्यवस्थाएं सुगठित हो, हकीकत यह है कि पुलिस की नाक के नीचे अपराध हो रहे हैं, और पुलिस कुछ नहीं कर पा रही। बिहार में अपराध का ग्राफ कितना बढ़ चुका है, यह किसी को याद दिलाने की जरूरत नहीं है। बीते 15 दिनों में राजधानी पटना के सिटी क्षेत्र में ही एक दर्जन से अधिक वारदातों को अंजाम दिया जा चुका है। लोग हैरान हैं, सकते में हैं, डरे हुए हैं। वहीं पुलिस मामला दर्ज कर महज कार्रवाई करने की बात कहती रह जा रही है।

पहले यह जानना जरूरी है कि बीते 15 दिनों में पटना सिटी इलाके में कब-कब और कितनी वारदातें हुई? इसके लिए आपको वारदातों का ब्यौरा सिलसिलेवार तरीके से देते हैं। 

केस 1 – 5 जुलाई को आलमगंज थाना क्षेत्र में मिथलेश गोप नामक व्यक्ति की हत्या। इस मामले में पुलिस ने 2 अपराधियों को गिरफ्तार किया है।

केस 2 - 5 जुलाई को ही चौक थाना क्षेत्र के जालान स्कूल कैंपस में मो. गोलू की ईंट पत्थर से कूचकर और गोली मारकर हत्या कर दी गई।

केस 3 – 6 जुलाई को गौरीचक थाना क्षेत्र के अण्डारी गांव के पास गड्ढे से युवती का शव बरामद किया गया। बता दें, उसकी हत्या गला काटकर की गई थी।

केस 4 – 10 जुलाई को मालसलामी थाना क्षेत्र के भट्ठी पर में कपड़ा दुकान में चोरी हुई थी। यह वारदात CCTV में कैद हो गई है।

केस 5 – 12 जुलाई को आलमगंज थाना क्षेत्र के सदलपुर स्थित आदिवासी कॉलोनी में कूरियर कम्पनी में लूटपाट। कर्मचारियों को बंधक बनाकर 12 लाख की लूट को अंजाम दिया गया था।

केस 6 – 13 जुलाई को दीदारगंज थाना क्षेत्र के सुकुलपुर में सिक्योरिटी गार्ड से 4 अपराधियों ने लूटपाट को अंजाम दिया था। इस मामले में पुलिस ने 3 लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया है।

केस 7 – 16 जुलाई को खाजेकलां थाना क्षेत्र के सदरगली में दो पक्षो में चाकूबाजी हुई, जिसमें 5 लोगों को घायल होने की सूचना है।

केस 8 – 17 जुलाई को बायपास थाना क्षेत्र के करमलीचक में 12 वर्षीय किशोर की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 

केस 9 – 17 जुलाई को अगमकुआं थाना के MIG फ्लैट में बिजली विभाग के लेखा पदाधिकारी के घर से 4 लाख की संपत्ति साफ कर ली गई।

केस 10 – 19 जुलाई को गोपालपुर थाना क्षेत्र के कछुआरा में भूमि विवाद में गोलीबारी हुई, जिसमें 3 लोग घायल हैं।

केस 11 – 19 जुलाई को ही मालसलामी थाना क्षेत्र में भूमि विवाद में भतीजे ने चाचा को गोली मार दी थी।

केस 12 – मालसलामी थाना के मंसूरगंज मंडी में व्यव्सायी से 15 लाख रुपए लूट लिए और उन्हें गोली मार दी, जिनका फिलहाल इलाज जारी है।

अब आप सोच सकते है कि बीते दिन में पांच व्यक्तियों को गोली मार दी गयी। हालांकि सबसे अच्छी बात यह रही कि इसमे सभी लोग अभी तक सलामत है। हालांकि दो दिन पहले मालसलामी थाना की पुलिस ने बाहन चेकिंग के दौरान चार अपराधियो को हथियार के साथ पकड़ने में जरूर कामयाब रही। वहीं अपराध में कमी लाने के लिए 94 बैच के इंपेक्टरों को थाने से हटाकर 2009 बैच के दारोगा को पदोन्नति देते हुए उन्हें अधिकतर थानों की कमान सौंपी गयी। इसका भी अबतक कुछ फायदा नहीं मिला, क्योंकि ना तो आपराधिक वारदातें कम हो रही हैं, और ना ही पुलिस किसी अपराधी को गिरफ्तार कर रही है। अब देखने बाली बात होगी कि जुलाई महीने के अभी 10 दिन और शेष है। क्या इस 10 दिनों में अपराध के ग्राफ में कोई कमी आती है? या फिर अपराध का क्रम बदस्तूर जारी रहता है?  

Find Us on Facebook

Trending News