बिहार का पहला करियर पोर्टल लॉन्च, अब छात्रों को मिलेगी बेहतर करियर चुनने में मदद

बिहार का पहला करियर पोर्टल लॉन्च, अब छात्रों को मिलेगी बेहतर करियर चुनने में मदद

PATNA:  बिहार  के छात्रों के लिए खुशखबरी है। शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा ने शुक्रवार को बिहार शिक्षा परियोजना परिषद और यूनिसेफ द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित कार्यक्रम में राज्य के छात्रों के लिए बिहार के पहले करियर पोर्टल www.biharcareerportal.com लॉन्च किया। इस करियर पोर्टल को यूनिसेफ के तकनीकी सहयोग से विकसित किया गया है। 

शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने कहा कि  वर्तमान में भारत की आबादी का पांचवा हिस्सा किशोर/किशोरियों का है, वहीं 2011 की जनगणना के अनुसार बिहार में 22% आबादी किशोर-किशोरियों का हैI युवा सबसे महत्वपूर्ण मानव संसाधन हैं, अतःहमें इनके विकास के लिए लगातार प्रयास करने की आवश्यकता हैI हम इनकी शिक्षा, कौशल, सशक्तिकरण तथा आर्थिक अवसरों में निवेश कर देश के भविष्य की सामाजिक एवं आर्थिक विकास की स्वर्णिम कहानी लिखने में मदद कर सकते हैं. शिक्षा, सशक्तिकरण, कौशल एवं रोजगार के क्षेत्र में बिहार सरकार द्वारा निरंतर प्रयास किए जाते रहे हैं. इन्हीं प्रयासों की अगली कड़ी में बिहार शिक्षा परियोजना परिषद एवं यूनिसेफ के संयुक्त प्रयास से बिहार करियर पोर्टल का शुभारंभ किया जा रहा है. 

युनिसेफ बिहार के प्रमुख असदुर रहमान ने कहा कि बिहार में 78 लाख किशोर/किशोरी हैं  जो इस कैरियर पोर्टल का लाभ ले पाएंगे. यह पहल किशोर/किशोरियों को सशक्त बनाने और उन्हें बेहतर कैरियर के बारे में फैसला लेने और विकल्प प्रदान करने के लिए एक ठोस कदम है । यह करियर पोर्टल छात्रों को कक्षा 10 वीं या कक्षा 12 वीं और यहां तक कि कक्षा 8 वीं के बाद एक सही बेहतर करियर चुनने में मदद करेगाI 

इससे पहले कार्यक्रम में सभी प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए राज्य परियोजना निदेशक संजय कुमार सिंह ने कहा कि इस वेबसाइट को वर्तमान में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के द्वारा 10 वी और १२ के बच्चे, बोर्ड के द्वारा द्वारा दिए गए रजिस्ट्रेशन नंबर को  लॉग इन आई.डी का यूज़ कर सकते  है। वेबसाइट पर उन्हें करियर विकल्पों के अलावा कौशल विकास कार्यक्रम इंटर्नशिप तथा अप्रेंटीसशिप की विश्वसनीय जानकारी मिलेगीI इस पोर्टल की रुपरेखा बिहार के परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई है. इस पर हिंदी के साथ अंग्रेजी में भी उपलब्ध हैI हमारा प्रयास है कि दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले बच्चें भी इस पोर्टल का आसानी से लाभ उठा सकेंI इस पोर्टल के माध्यम से कक्षा 9 से 12 तक के छात्र/छात्राओं को लगभग 460 प्रोफेशनल करियर,  955 छात्रवृत्ति, 1050 प्रवेश परीक्षाओं और 6400 से अधिक उच्च शिक्षण संस्थानों की जानकारी मिलेगी।

युनिसेफ बिहार की शिक्षा विशेषज्ञ प्रमिला मनोहरण ने कहा कि इस पोर्टल का निर्माण ख़ास तौर पर बच्चों एवं शिक्षकों के मांग पर किया गया है. किशोर-किशोरियों के जीवन में किशोरावस्था को ‘सेकेंड विंडो ऑफ ओपोरचुनिटी’ के रूप में जाना जाता है.  यदि इस अवस्था में बच्चों को सार्थक मार्गदर्शन मिले तो वे अपने भविष्य को बेहतर तरीके से संवार सकते हैं. 

कार्यक्रम का संचालन बिहार शिक्षा परियोजना परिषद् के राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ रवि शंकर सिंह ने किया। इस अवसर पर बिहार शिक्षा परियोजना परिषद् के राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी, सभी जिलों के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ( समग्र शिक्षा अभियान)  के साथ ही युनिसेफ के शिक्षा पदाधिकारी, रवि दयाल, बिहार शिक्षा परियोजना परिषद् के भरत भूषण, शाहिद मोबिन एवं रवि शेखर सिन्हा भी उपस्थित रहे।


Find Us on Facebook

Trending News