बिहार सरकार ने चीनी कंपनी को दिया झटका, महात्मा गाँधी सेतु के समानांतर बनने वाले पुल का टेंडर किया रद्द

बिहार सरकार ने चीनी कंपनी को दिया झटका, महात्मा गाँधी सेतु के समानांतर बनने वाले पुल का टेंडर किया रद्द

PATNACITY : लद्दाख के गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुए हिंसक झड़प में भारत के 20 जवानों की शहादत पर चीन के सामानों को लेकर पूरे देश मे विरोध प्रदर्शन हुआ. इसका असर पटना में महात्मा गांधी के सामानांतर बनने वाले पुल पर भी पड़ा है. राजधानी पटना में उत्तर बिहार और दक्षिण बिहार को जोड़ने वाले महात्मा गांधी सेतु के समानांतर एक नए पुल निर्माण के लिए टेंडर जारी किया गया था. 

जिसमें 7 एजेंसियों ने भाग लिया था. वही दो एजेंसियों ने चीन की एजेंसियों को पार्टनर बनाया था. भारत और चीन के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद भारत ने चीन की एजेंसियों को पार्टनर बनाने से मना किया था. लेकिन बाकी एजेंसियों ने बात नहीं मानी. 

इस मामले को लेकर महात्मा गांधी सेतु के समानांतर नए पुल निर्माण का टेंडर रद्द कर दिया गया है. पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने बताया कि पुल निर्माण के लिए जारी किए गए टेंडर में चीन की एजेंसी को भी पार्टनर बनाया गया था. इस टेंडर को रद्द कर नए टेंडर की प्रक्रिया 31 जुलाई से शुरू की जाएगी. 

बताते चलें की 15 जून को भारत चीन बॉर्डर पर लद्दाख के गलवान घाटी में दोनों सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी. इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. इस घटना के बाद भारत में चीन के सामानों के बहिष्कार करने की बात की जा रही है. इसी कड़ी में इस टेंडर को रद्द करने का निर्णय लिया गया है. 

पटनासिटी से रजनीश की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News