BIHAR NEWS: चेन स्नैचिंग को हल्के में लेती है जीआरपी, तीन में से एक भी केस दर्ज नहीं, टालमटोल जवाब देकर झाड़ा पल्ला

BIHAR NEWS: चेन स्नैचिंग को हल्के में लेती है जीआरपी, तीन में से एक भी केस दर्ज नहीं, टालमटोल जवाब देकर झाड़ा पल्ला

BAGAHA: नरकटियागंज गोरखपुर रेलखंड पर यात्रियों की सुरक्षा भगवान भरोसे होकर रह गयी है। विगत डेढ़ माह के अंदर बगहा स्टेशन पर तीन मामले चैन स्नेचिंग के हुए लेकिन, जीआरपी में एक भी मामला दर्ज नहीं है। ताजा घटना सोमवार शाम में नरकटियागंज से चलकर गोरखपुर जाने वाली सवारी गाड़ी 05096 की है, जिसमें एक महिला यात्री की गर्दन से चैन खींचते एक युवक को आरपीएफ के कांस्टेबल हरिश्चन्द्र यादव ने पकड़ा। सूचना पाकर वहां जीआरपी व आरपीएफ के अन्य लोग भी पंहुच गए। आरपीएफ के एसआई गोबिंद सिंह ने बताया कि गौनाहा थाना के पिपरा निवासी गुड्डू को जीआरपी को सुपुर्द कर दिया गया। महिला यात्री को लखनऊ जाना था वह उसी गाड़ी से निकल गई। वहीं जीआरपी के थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने दूरभाष पर पहले चेन पुलिंग की बात कहते हुए आरपीएफ का मामला बताते हुए अपना पल्ला झाड़ने का प्रयास किया। हालांकि पुनः आवेदन और जब्ती नहीं होने की बात कहते हुए मामले की जानकारी से इंकार कर दिया। 

बड़ा सवाल यह है कि आए दिन चोरों द्वारा यात्रियों के सामानों की छीना झपटी की जा रही है। वहीं यात्रियों की शिकायत पर जीआरपी द्वारा लीपापोती का प्रयास कर चोर उचक्कों को संरक्षण दिया जा रहा है। वहीं आरपीएफ के द्वारा पकड़े गए चोर को भी बड़ी आसानी से छोड़ दिया जा रहा है। ऐसे में इस रेलखंड पर यात्रियों की सुरक्षा किसके जिम्मे है। सोमवार के दिन बगहा रेलवे स्टेशन पर सवारी गाड़ी में चढ़ रही एक महिला के साथ चेन स्नैचिंग करते एक चोर को रंगे हाथों आरपीएफ जवानों के द्वारा पकड़ा गया। महिला बगहा रेलवे स्टेशन से सवार होकर गोरखपुर की तरफ जा रही थी। आरपीएफ के सब इंस्पेक्टर गोविंद सिंह ने बताया कि चेन स्नेचिंग करते चोर को पकड़ा गया था। जिसको जीआरपी के हवाले कर दिया गया। जबकि इस संबंध में जीआरपी थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने बताया कि ऐसी कोई मामला मेरे संज्ञान में नहीं आया है। 

अब यह समझना मुश्किल हो गया है कि बगहा रेलवे स्टेशन पर एक किनारे जीआरपी रहती है तो दूसरे किनारे पर आरपीएफ रहता है। आरपीएफ जवानों के द्वारा चेन स्नेचिंग करते चोर को पकड़कर जीआरपी के हवाले किया गया। जिसको आरपीएफ के सब इंस्पेक्टर गोविंद सिंह के द्वारा स्वीकार किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ जीआरपी थानाध्यक्ष के द्वारा इस संबंध में जानकारी से इंकार करना अपने आप में बहुत कुछ कह जाता है। अब रेलवे स्टेशन पर जनता के सुरक्षा की जवाबदेही किसकी है। यह कहना मुश्किल है।

Find Us on Facebook

Trending News