BIHAR NEWS: बाढ़ के बीच जायजा लेने निकली प्लुरल्स प्रेसिडेंट पुष्पम, पीड़ितों से मिली, सरकारी मदद नहीं मिलने पर उठाए सवाल

BIHAR NEWS: बाढ़ के बीच जायजा लेने निकली प्लुरल्स प्रेसिडेंट पुष्पम, पीड़ितों से मिली, सरकारी मदद नहीं मिलने पर उठाए सवाल

SAMASTIPUR: बिहार में बाढ़ आ चुकी है, इसमें नया कुछ नहीं है। नई बात यह है कि इस बाढ़ में कई नेता, मंत्री सहित कई माननीय पीड़ितों का हालचाल लेने के बहाने अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने निकल पड़े हैं। एक तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बाढ़ का एरियल सर्वे कर चुके हैं, और साथ ही अधिकारियों को लगातार राहत कार्य चलाने संबंधी निर्देश दे रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ अन्य नेता पीड़ितों से मिलकर सरकारी मदद मिलने संबंधित सवाल कर उनका दर्द जान रहे हैं।

इसी कड़ी में प्लुरल्स पार्टी की प्रेसिडेंट पुष्पम प्रिया चौधरी ने अपनी बाढ़ यात्रा शुरू की है, जहां वह बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा ले रही हैं। साथ ही विस्थापितों से मुलाकात कर उनका दर्द जान रही हैं, और सरकार के उन दावों की पोल खोल रही हैं, जिसमें कहा जा रहा है कि बाढ़ पीड़ितों को उचित सुविधा मुहैया कर दी गई है। गुरूवार को पुष्पम प्रिया चौधरी समस्तीपुर पहुंची, जहां उन्होनें विस्थापितों का दर्द जाना और मौजूदा सरकार पर निशाना साधा।

पीड़ितों को नहीं मिली सरकारी मदद

समस्तीपुर में बूढ़ी गंडक नदी के बाढ़ प्रभावित लोग बदतर हालात में जीने को विवश हैं। सरकार इन विस्थापितों को लेकर असंवेदनशील है। रहने, पानी पीने और शौचालय की समस्यायों के बीच जूझ रहे हैं लोगों के बीच से सरकार लापता दिख रही है। यह बात प्लुरल्स पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष पुष्पम प्रिया चौधरी समस्तीपुर के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के बाद कही। समस्तीपुर में मगरदही घाट पर रोड़ पर जिंदगी जी रहे लोगों ने रो-रो कर अपना दुखड़ा बताया। बाढ़ से विस्थापित लोगों ने बताया कि हर साल उनका आसरा गंडक की चपेट में आ जाता है। ना उन्हें सरकार द्वारा राशन कार्ड की सुविधा मिली है ना ही प्रधानमंत्री आवास योजना का। विधवा पेंशन को मुद्दे पर भी लोगों ने भी पुष्पम प्रिया चौधरी को असल हालात बताए।

जलजमाव के बीच जर्जर हो गया बीएड कॉलेज

लोगों से मिलने के बाद पुष्पम प्रिया चौधरी ने जल जमाव से डूबे बीएड कॉलेज का भी दौरा किया। शहर के बीचों बीच स्थित होने के बावजूद बिना किसी प्लान के बनाए गए इस कॉलेज को सरकार की नाकामी ने बंद होने को मजबूर कर दिया है। जलजमाव के मुद्दे पर कहा कि सरकार के नगर नियोजन की कोई नीति ही नहीं है क्योंकि नगरीय बसावट की कोई नीति बनाने ही नहीं आती है। इसके बाद पार्टी अध्यक्ष ने शहर के इंटर स्कूल की डूबे हुए मैदान का निरीक्षण भी किया और विभूतिपुर के बैंती नदी का टूटे हुए बांध का भी निरीक्षण किया।

कागजी हैं प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की योजनाएं

लोगों के बीच वक्त बिताकर, उनका दुख जानने के बाद पुष्पम प्रिया चौधरी ने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सभी योजनाएं केवल कागज पर चल रही है। यहां लोगों को ना तो प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिला है, ना ही बाढ़ संबंधी किसी तरह की राहत अबतक उन्हें मिली हैं। सालों की कमाई से बना घर भी बाढ़ अपने साथ ले गई। अब लोगों का पास खोने को कुछ नहीं बचा है। ग्रामीणों ने स्थायी और पक्के बांध की मांग प्लुरल्स पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष से की। इस दौरे में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अनुपम सुमन, प्रेस सेक्रेटरी मुकेश कुमार, जिला अध्यक्ष सौरभ सुमन, उपाध्यक्ष शिवम, नगर अध्यक्ष आदित्य मौजूद रहे।

Find Us on Facebook

Trending News