जिस घर से कल बारात निकालने की चल रही थी तैयारी, वहां दूल्हे की निकली अर्थी

जिस घर से कल बारात निकालने की चल रही थी तैयारी, वहां दूल्हे की निकली अर्थी

NALANDA/SAHIBGANJ : नालंदा जिले के बिहार शरीफ से एक दिल दहला देने वाली खबर आ रही. जहां कोरोना संक्रमण ने दो जिंदगी को एक होने से पहले ही हमेशा के लिए दूर कर दिया. इस घटना के बाद दोनों परिवारों पर गम का पहाड़ टूट पड़ा है.बिहार के नालन्दा जिले के बिहार शरीफ में एक कार्यरत रेलकर्मी की शादी के चंद घंटों पहले ही कोरोना संक्रमण से मौत हो गई.

दोनों घरों में शादी की तैयारियां जोरों पर थीं, लेकिन जैसा ही दूल्हे की मौत हुई तो दोनों परिवार गम में डूब गये. मृतक वीरेन्द्र पासवान बिहार शरीफ रेलवे स्टेशन पर था कार्यरत था.  घटना के बारे में बताया जाता है कि रेलकर्मी वीरेंद्र पासवान बिहार शरीफ रेलवे स्टेशन पर सिग्नल हेल्पर के पद पर कार्यरत था. उसकी आज 27 अप्रैल को शादी होनी थी.

झारखंड के साहेबगंज में घर से शादी की सारी तैयारी भी पूरी कर ली गई थी. लेकिन, 27 अप्रैल की सुबह ही कोरोना संक्रमण के कारण उनकी मौत हो गई. बताया जाता है कि रेलकर्मी वीरेंद्र पासवान की 13 अप्रैल से तबीयत खराब चल रही थी. वहीं झारखंड के साहेबगंज सदर अस्पताल में कोरोना जांच कराने के बाद कोविड-19 होने पॉजिटिव पर 15 दिन की होम आइसोलेशन पर चला गया था, जहां आज उसकी मौत कोरोना संक्रमण से हो गई.

बिहार शरीफ रेलवे स्टेशन पर कार्यरत सिग्नल हेल्पर बिरेंद्र पासवान की मौत कोरोना से होने की पुष्टि स्टेशन प्रबंधक बिहार शरीफ ने की है. उन्होंने बताया कि कल ही उसकी शादी होने वाली था. उसके घर में शादी का माहौल था, लेकिन शादी माहौल अचानक मातम में बदल गया. बताया जाता है कि वह पिछले सप्ताह से ही बीमार चल रहा था. जिसके कारण वह अपने पैतृक गांव साहेबगंज झारखंड में ही इलाज करवा रहा था, जहां उसकी मृत्यु हो गई.

जैसे ही घटना की जानकारी रेल कर्मियों को मिली तो उन्होंने घटना पर शोक जताया. कहा कि एक अच्छे रेलकर्मी के अचानक हम लोगों के बीच से चले गये जो बेहद दुखदाई है. सबसे बड़ी बात है कि उसकी शादी होनी थी. लेकिन घर से बारात निकलने के बजाय उसकी अर्थी निकली जो काफी दर्दनाक घटना है.

Find Us on Facebook

Trending News