बिहार पुलिस ने बिहारी जुगाड़ लगा कर की जांच, जान कर आप भी कहेंगे-वाह

बिहार पुलिस ने बिहारी जुगाड़ लगा कर की जांच, जान कर आप भी कहेंगे-वाह

DESK: बिहारी अपने जुगाड़ के लिए जाने जाते है. कितनी भी विपरीत परिस्थिति क्युं न हो बिहारियों ने जो लक्ष्य साध लिया उसे पूरा करते हैं. इस बात को एक बार सच साबित किया  है सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में जांच करने मुंबई पहुंची पटना पुलिस ने. मुंबई पहुंच कर बिहार पुलिस ने वो कर दिखाया जो मुंबई पुलिस बीते डेढ़ महीने में नहीं कर पाई. पुलिस ने ऐसे अहम सबूत जुटाए है जो इस केस को मिनटों में सॉल्व कर देगी. लेकिन यह सबूत इकट्ठा करने में बीहरा पुलिस को कम पापड़ नहीं बेलने पड़े हैं.

मुंबई पुलिस बिहार पुलिस को काम करने से रोकना चाहती थी और हाथ धोकर उनके पीछे पड़ी थी तो वहीं दूसरी तरफ बीएमसी इन्हें क्‍वारंटाइन करने के लिए पकड़ना चाहती थी. ऐसे में बिहार पुलिस ने बिहारी जुगाड़ तकनीक का सहारा लेकर अपना काम पूरा किया. यह टीम टीम वॉलीवुड सर्किल में भवष्यिवक्‍ता बनकर घुसी और अपना काम कर निकल आई. पूरी जांच के दौरान वह मुंबई पुलिस को भेष बदलकर छकाती रही. उसकी मुख्‍य आरोपित रिया चक्रवर्ती पर भी लगातार नजर बनी रही.

रिया पर रहा पुलिस का पूरा फोकस

पटना के राजीव नगर थाने में दर्ज एफआईआर के मुताबिक इस मामले में मुख्य आरोपी रिया थी. ऐसे में बिहार पुलिस का पूरा फोकस रिया पर था. भलें ही रिया यह सोच रही हो कि वो पुलिस से बच कर मुंबई में रह रही थी लेकिन पटना लौटी बिहार पुलिस की टीम ने बताया कि उन्हें रिया के ठिकानों के बारे में पता था. बिहार पुलिस की टीम के मुताबिक रिया ने डर से अपना घर छोड़ दिया था कि पटना पुलिस उसे पूछताछ कर गिरफ्तार कर लेगी. इसके बाद वह बांद्रा पुलिस स्‍टेशन के पास एक फ्लैट में छिपी थी. पुलिस टीम में शामिल मो. कैसर यासीन ने बताया कि बिहार पुलिस मुंबई पहुंचने के 36 घंटे पहले से ही रिया पर नजर रखे हुए थी. ''हमारे लोग हमें पल-पल की खबर दे रहे थे.''

बॉलीवुड में घुसकर निकाली जानकारी

पुलिस अधिकारी मो. यासीन ने बताया कि जब वो बांद्रा पुलिस स्‍टेशन में एफआइआर की कॉपी व मामले में दर्ज बयान की रिपोर्ट लेने गए तो पुलिस ने उन्हें देने से मना कर दिया. उन्होंने यह भी कहा कि जब से वो लोग वहां पहुंचे थे उसके बाद से लेकर उनके लौटने तक मुंबई पुलिस असहयोग के मूड में रही. उसका रवैया देखकर बिहार पुलिस ने बिहारी जुगाड़ तकनीक का सहारा लिया. बिहार पुलिस की टीम ने भविष्‍यवक्‍ताओं का वेष धारण कर बॉलीवुड में एंट्री ली और वहां कई लोगों से मुलाकात कर अपने काम के बयान लिए.

मुंबई में आसान नहीं था बिहार पुलिस का काम

मो. यासीन ने बताया कि मुंबई में बिहार पुलिस का काम आसान नहीं था.  मुंबई पुलिस लगातार पीछे पड़ी थी. मोबाइल नंबर ट्रेस किए जा रहे थे। ऐसे में उन्‍होंने दो बार खुला चैलेंज दिया कि मुंबई पुलिस उन्‍हें ट्रेस करे, लेकिन वह विफल रही. फिर, मामले की जांच के सिलसिले में मुंबई पहुंचे पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी को कोरोना के बहाने क्‍वारंटाइन कर जांच रोकने की कोशिश की गई. लेकिन बिहार पुलिस ने गोपनीय तरीके से काम जारी रखा.

Find Us on Facebook

Trending News