'चक्रव्यूह' में फंसने के बाद पहली दफे बिहार आ रहे हरीश द्विवेदी, ट्रेनिंग प्रोग्राम में शिरकत करेंगे BJP सह-प्रभारी

'चक्रव्यूह' में फंसने के बाद पहली दफे बिहार आ रहे हरीश द्विवेदी, ट्रेनिंग प्रोग्राम में शिरकत करेंगे BJP सह-प्रभारी

PATNA: बिहार बीजेपी नेताओं-कार्यकर्ताओं के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम होगा। कार्यशाला के माध्यम से पार्टी के वरिष्ठ नेता अपने कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करेंगे। रविवार से प्रदेश कार्यालय में आयोजित तीन दिवसीय कार्यशाला में बिहार भाजपा सह-प्रभारी से प्रमोट होकर प्रभारी बने और फिर से सह-प्रभारी बनाए जाने वाले हरीश द्विवेदी भी शिरकत करेंगे। यह पहला अवसर होगा जब प्रभारी वाली चिट्ठी निकलने व बधाई लेने के बाद वे सह-प्रभारी की हैसियत से ही बिहार आ रहे .

प्रदेश कार्यालय में नेताओं का होगा प्रशिक्षण

भाजपा का तीन दिवसीय कार्यशाला 14 नवंबर से शुरू होकर 16 नवंबर तक चलेगा. इसमें सरकार के मंत्री से लेकर सांसद, विधायक, प्रदेश पदाधिकारी, मोर्चा-प्रकोष्ठ के नेता, प्रवक्ता मिलाकर करीब डेढ़ सौ प्रतिनिधि भाग लेंगे. कार्यशाला के जरिए कार्यकर्ताओं को 15 विषयों का पाठ पढ़ाया जाएगा. इस कार्यक्रम में बिहार भाजपा के सह प्रभारी हरीश द्विवेदी, उपमुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद व रेनू देवी, प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय, प्रदेश संगठन महामंत्री धीरुभाई दलसानिया, शाहनवाज हुसैन, नंदकिशोर यादव, प्रेम कुमार, सांसद राकेश सिन्हा, संजय मयूख और देवेश कुमार संबोधित करेंगे.

25 नवंबर से 25 दिसंबर तक जिला में ट्रेनिंग

कार्यशाला में उपस्थित प्रतिनिधियों की ट्रेनिंग के बाद सभी 45 संगठन जिला में तीन दिवसीय जिला प्रशिक्षण कार्यक्रम होगा। 25 नवंबर से 25 दिसंबर तक जिला प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया गया है . राज्य स्तर पर जो कार्यकर्ता और नेता प्रशिक्षण लेंगे वह अपने जिलों में जाकर अन्य कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग देंगे।

दिल्ली की चिट्‌ठी से बिहार में गफलत

 बता दें, बीजेपी नेतृत्व की तरफ से जो चिट्ठी जारी की गई थी उसके बाद भाजपा नेताओं ने हरीश द्विवेदी को प्रभारी मान बधाई देना शुरू कर दिया था। यहां तक की प्रदेश अध्यक्ष से लेकर केंद्रीय मंत्री व संगठन महामंत्री तक ने बधाई दे दी थी। हरीश द्विवेदी ने बिहार प्रभारी बनाये जाने पर नेतृत्व को शुक्रिया भी अदा कर दिया था। लेकिन अगले दिन ही चक्रव्यूह में फंस गये और फिर से सह-प्रभारी बना दिये गये।यानी खुशियां चंद घंटों में ही खत्म हो गई।


Find Us on Facebook

Trending News