22 साल में पूरी तरह से बदल गया मंत्रिमंडल : 1999 के वाजपेयी सरकार से अब सिर्फ एक मंत्री को मोदी कैबिनेट में जगह, जानिए कौन है वो

22 साल में पूरी तरह से बदल गया मंत्रिमंडल : 1999 के वाजपेयी सरकार से अब सिर्फ एक मंत्री को मोदी कैबिनेट में जगह, जानिए कौन है वो

PATNA : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कैबिनेट का विस्तार कर लिया है। कैबिनेट में इस बार ज्यादातर नए चेहरों को मौका दिया गया है। वहीं कुछ चेहरों को दोबारा मौका दिया गया है। लेकिन, नए कैबिनेट की जो एक बात सबसे अलग है कि अब मोदी कैबिनेट में सिर्फ एक चेहरा ऐसा रह गया है, जो कि पहले वाजपेयी सरकार में भी अहम मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल चुका है। बाकि कोई भी ऐसा मंत्री नहीं है, जो 1999 की वाजपेयी सरकार का भी हिस्सा था।

रविशंकर प्रसाद और गंगवार को हटाने के बाद बदल गई स्थिति

मौजूद मोदी कैबिनेट के विस्तार से पहले तीन मंत्री ऐसे थे, जो कि वाजपेयी सरकार में भी मंत्री पद की जिम्मेदारी संभाल चुके थे। इनमें एक नाम रविशंकर प्रसाद का था, जो कि वाजपेयी सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे और मौजूदा मोदी सरकार का भी हिस्सा रहे। लेकिन अब वह मोदी कैबिनेट से अलग कर दिये गए हैं। वहीं दूसरा नाम बरेली से सांसद संतोष गंगवार का है। गंगवारभारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई के नेतृत्व में बनी सरकार में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री के साथ-साथ संसदीय कार्य राज्य मंत्री रहे। इसके अलावा विज्ञान एवं तकनीकी राज्य मंत्री भी रहे। संतोष गंगवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में कपड़ा राज्य मंत्री, वित्त एवं राजस्व राज्य मंत्री, श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। अब उन्होंने इस्तीफा दे दिया है। 

वाजपेयी सरकार और मोदी सरकार के बीच अब सिर्फ एक चेहरा ऐसा है, जो अब तक कायम है, वह चेहरा है राजनाथ सिंह का। राजनाथ सिंह वाजपेयी सरकार में भी मंत्री बने और मौजूदा मोदी सरकार में भी वह रक्षा मंत्रालय की अहम जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। फिलहाल 76 मंत्रियों वाले मोदी कैबिनेट में राजनाथ सिंह इकलौते नेता हैं, जो इन 22 सालों में सेंट्रल की राजनीति से अलग नहीं हुए हैं।

वाजपेयी मंत्रीमंडल के अधिकतर नेताओं को हो गई मौत

वाजपेयी कैबिनेट के कई ऐसे नेता भी रहे जिन्हें मोदी मंत्रिमंडल में भी जगह मिली। इनमें सुषमा स्वराज, अरूण जेटली जैसे कई नाम शामिल हैं, लेकिन इनमें कईयों की मौत हो चुकी है। वहीं जो मंत्री जीवित हैं उन्होंने अब खुद को राज्य की राजनीति तक सीमित कर लिया है। इनमें बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे आदि नाम शामिल हैं। शाहनवाज हुसैन, राजीव प्रताप रुडी आदि कुछ नेता अब सेंट्रल की राजनीति से दूर हैं या यूं कहें उन्हें प्रधानमंत्री का विश्वास हासिल नहीं है। वाजपेयी कैबिनेट में मंत्री वैंकेया नायडू अब उप राष्ट्रपति की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। 

Find Us on Facebook

Trending News