गाँधी को गाली देने वाले कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी पर बिफरे भाजपाई गृह मंत्री

गाँधी को गाली देने वाले कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी पर बिफरे भाजपाई गृह मंत्री

दिल्ली. राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के लिए अपमानजनक टिप्पणी करने वाले कालीचरण महाराज को गुरुवार तड़के मध्य प्रदेश के खजुराहो से छतीसगढ पुलिस ने गिरफ्तार किया. हालाँकि उसकी गिरफ्तारी का तरीका अब मध्य प्रदेश के गृह मंत्री को रास नहीं आई है. मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कालीचरण की गिरफ्तारी की प्रक्रिया पर ऐतराज जताया है. उन्होंने ट्वीट किया-, छत्तीसगढ़ पुलिस को अपने एक्शन की जानकारी मध्यप्रदेश पुलिस को देनी चाहिए थी. इससे इंटरस्टेट प्रोटोकॉल का उल्लंघन हुआ है. मध्यप्रदेश के पुलिस महानिदेशक छत्तीसगढ़ पुलिस से आपत्ति दर्ज कराएंगे. 

अब नरोत्तम मिश्र की इस आपत्ति पर कई लोगों ने ऐतराज जताया है. कुछ लोगों ने उनके ट्वीट पर आपत्ति जताते हुए इसे कालीचरण के प्रति हमदर्दी दिखाना तक कहा है. वहीं कुछ यूजर ने उनका समर्थन भी किया है और पुलिस को नियमों के तहत कार्रवाई करने की बात का समर्थन किया है. हालाँकि गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा की आपत्ति पर अब तक छतीसगढ़ की कांग्रेस सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. 

रायपुर एसपी प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि कालीचरण महाराज खजुराहो से 25 किलोमीटर दूर बागेश्वर धाम में किराए के मकान में रह रहे थे. गुरुवार सुबह 4 बजे पुलिस ने कालीचरण को गिरफ्तार किया. उसे अब रायपुर ले जाया जाएगा. 

कालीचरण पर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में कई जगह मुकदमे दर्ज किए गए थे. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आयोजित धर्म संसद में धर्मगुरु कालीचरण महाराज ने महात्मा गांधी के बारे में अपमानजनक शब्द कहे थे और नाथूराम गोडसे को बापू की हत्या के लिए सही ठहराया था. इसके बाद कालीचरण महाराज के खिलाफ बीते रविवार को रायपुर के टिकरापारा थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 505 (2) (वर्गों के बीच शत्रुता, घृणा या द्वेष पैदा करने वाले बयान देना) और 294 के तहत मामला दर्ज किया गया था. 

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अकोला (महाराष्ट्र) के कालीचरण को चुनौती देते हुए उसे आत्मसमर्पण करने को कहा था. वहीं कालीचरण ने आत्मसमर्पण करने की बजाए एक और वीडियो जारी किया था जिसमें उसने दावा करते हुए कहा है कि वह अपने शब्दों के बदले में मृत्युदंड भी पाने के लिए तैयार है.‌

कालीचरण ने कहा था कि सरदार पटेल को प्रधानमंत्री बनाया गया होता तो आज देश की तस्वीर कुछ और होती. इस वीडियो में हिंदुत्व पर भावनात्मक संवाद के दौरान कालीचरण ने नाथुराम गोडसे की जमकर तारीफ की और उन्हें नमन किया है. अब कालीचरण की गिरफ्तारी के बाद उसके खिलाफ भड़काऊ भाषण देने सहित अपमानजनक टिप्पणी करने, समाज में द्वेष पैदा करने सहित कई अन्य मामलों में दर्ज हुई शिकायत के आधार पर उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.


Find Us on Facebook

Trending News