ललन सिंह के करीबी के ठिकानों पर छापेमारी पर बोली भाजपा - संविधान पर भरोसा करना सीखें महागठबंधन के लोग

ललन सिंह के करीबी के ठिकानों पर छापेमारी पर बोली भाजपा - संविधान पर भरोसा करना सीखें महागठबंधन के लोग

PATNA : ललन सिंह के करीबी के खिलाफ इनकम टैक्स की छापेमारी पर अब राजनीति शुरू हो गई है। जहां जदयू की तरफ से इस कार्रवाई को उपचुनाव में भाजपा की होनेवाली हार को लेकर हताशा का परिणाम बताया गया है। वहीं दूसरी तरफ भाजपा ने कहा है कि इस कार्रवाई में केंद्र पर आरोप लगाना बिल्कुल गलत है। सच्चाई यह है कि बिहार की सत्ता में बैठे लोग  संविधान पर भरोसा नहीं करते हैं।

भाजपा प्रवक्ता नीखिल आनंद ने आज हो रही इनकम टैक्स की कार्रवाई को लेकर कहा कि सीबीआई, ईडी और इनकम टैक्स स्वायत संस्थाएं है। इन संस्थाओं के लिए यह कहना आसान है कि इन्हें केंद्र के इशारे पर चलाया जा रहा है,लेकिन यह सच नहीं है। 

भाजपा नेता ने कहा कि वो लोग कहते हैं कि भाजपा के इशारे पर यह सारी कार्रवाई की जा रही है। लेकिन किसी स्वायत संस्था के लिए यह कराना संभव नहीं है। इसकी पूरी प्रक्रिया होती है, सिर्फ कहने से कुछ नहीं होता। कार्रवाई से पहले सबूत जुटाए जाते हैं। उसके बाद ही किसी के खिलाफ कार्रवाई होती है। 

आज की कार्रवाई पर बोले

निखिल आनंद ने कहा कि छापेमारी से  किसी को लगता है कि उनके साथ गलत हो रहा है,  उनके सामने कोर्ट है, वह वहां जा सकते है। लेकिन बार-बार स्वायत संस्थाओं को लेकर आरोप लगाना कहीं से भी सहीं नहीं कहा सकता है.

निकाय चुनाव में नीतीश कुमार ने किया चिट

भाजपा प्रवक्ता ने निकाय चुनाव को लेकर जदयू के धरना प्रर्दशन को नाटक करार दिया है। उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि नीतीश कुमार कभी नहीं चाहते कि बिहार में अतिपिछड़ों को आरक्षण की व्यवस्था की जाए। यही कारण है कि हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के  आदेश के बाद भी अब तक आरक्षण को लेकर आयोग का गठन किया गया। सच्चाई यह है कि नीतीश कुमार एक्सपोज हो चुके है। न तो विशेष सत्र बुलाकर कोई संकल्प पारित कराया गया और न ही सुप्रीमकोर्ट में कोई हलफनामा दायर किया गया है। जाहिर है कि नीतीश कुमार अब सिर्फ इस मुद्दे को अपनी राजनीति के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें अति पिछड़ों से कोई मतलब नहीं है।

Find Us on Facebook

Trending News