पार्टी लाइन को लांघ गए BJP उपाध्यक्ष! जहरीली शराब से मौत पर मुआवजा के मुद्दे पर भाजपा में भारी मतभेद.अब क्या करेगा नेतृत्व

पार्टी लाइन को लांघ गए BJP उपाध्यक्ष! जहरीली शराब से मौत पर मुआवजा के मुद्दे पर भाजपा में भारी मतभेद.अब क्या करेगा नेतृत्व

PATNA : बिहार के सारण जिले में पिछले सप्ताह जहरीले शराब से हुए 70 से ज्यादा लोगों की मौत पर पटना से लेकर दिल्ली तक राजनीति की जा रही है। मारे गए लोगों को मुआवजा देने की मांग को लेकर भाजपा ने विधानमंडल के शीतकालीन सत्र में जमकर प्रदर्शन किया। ताकि सरकार पीड़ितों के परिवार के प्रति अपना नजरिया नरम कर सके। वहीं भाजपा के इस मांग को लेकर उनकी ही पार्टी में मतभेद उभर आया है। पार्टी का एक वर्ग मारे गए लोगों को परिवार को मुआवजा देने की मांग को गलत मान रहा है। इस वर्ग का कहना है कि इससे गलत संदेश जाएगा।

दरअसल, पिछले दिनों न्यूज4नेशन द्वारा 2016 में गोपालगंज के रोजरबिन्नी में शराब से मारे गए लोगों के परिवार को मुआवजा दिए जाने का खुलासा किया था. जिसके बाद मांग तेज हो गई 2016 में दिया तो अब क्यों नहीं। ऐसे में भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्षर राजीव रंजन ने पार्टी की मांग के विपरीत मुआवजे दिए जाने की मांग को गलत बता दिया है। हालांकि राजीव रंजन ने कहा कि यह उनका व्यक्तिगत नजरिया है कि इससे अपराधियों के हौंसले बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि कोई शख्स शराब पीता है तो यह सोच समझकर किया गया अपराधिक कृत्य है। यदि इसमें मुआवजा दिया गया तो कल हत्या और लूट जैसे घृणित अपराध करनेवाले अपराधी भी मुआवजे की मांग करने लगेंगे।

खजूरबन्नी के अधिकारियों पर हो कार्रवाई

राजीव रंजन यहीं पर नहीं रुके। उन्होंने कहा कि 2016 में खजूरबन्नी शराब सेवन से मारे गए लोगों के परिवार को मुआवजा देना गलत फैसला था। सरकार को चाहिए कि नियमों को तोड़कर खजूरबन्नी में मुआवजा देनेवाले अधिकार पर कार्रवाई करे।

भाजपा के लिए मुश्किल

राजीव रंजन के मुआवजे को लेकर जताए विरोध के बाद अब भाजपा नेतृत्व की मुश्किलें बढ़ गई है। जाहिर है कि जब पार्टी में इस मुद्दे पर एकमत नहीं है, तो राज्य सरकार को इसके लिए बाध्य करना कितना मुश्किल होगा।


Find Us on Facebook

Trending News