BREAKING NEWS: 1250 दिनों बाद पटना लौट रहे हैं RJD सुप्रीमो, दुर्गापूजा के बाद होगी लालू यादव की ग्रैंड एंट्री

BREAKING NEWS: 1250 दिनों बाद पटना लौट रहे हैं RJD सुप्रीमो, दुर्गापूजा के बाद होगी लालू यादव की ग्रैंड एंट्री

PATNA: राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव जमानत पर जेल से बाहर तो आ गए हैं, मगर अब तक उन्होंने पटना की धरती पर कदम नहीं रखा है। आखिरी बार साल 2018 में ही वह पटना आए थे। जिसके बाद से अब तक वह बाहर ही रहे। इसी बीच बड़ी खबर आ रही है कि लालू प्रसाद यादव इसी महीने पटना आने वाले हैं।

अक्टूबर के तीसरे हफ्ते में आएंगे लालू यादव

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव अक्टूबर के महीने में पटना आ रहे हैं। इस बार उनके आने की तारीख भी तय हो गई है। बता दें कि दुर्गा पूजा के बाद 20 अक्टूबर को लालू प्रसाद यादव पटना लौट रहे हैं। करीब-करीब 1250 दिनों बाद वह ‘घर’ लौट रहे हैं। इसके पहले आखरी बार वह 12 मई 2018 को बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की शादी में शामिल हुए थे। हालांकि इसमें भी वह कुछ दिनों के लिए पैरोल पर ही बाहर आए थे।

राजद के मुख्य प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने शुक्रवार को उपचुनाव से संबंधित बैठक के बाद ही इस बारे में जानकारी दी। उन्होनें कहा कि स्टार प्रचारकों की सूची में लालू यादव का नाम है तो वह चुनाव प्रचार में शामिल होंगे ही। इसके लिए वह बिल्कुल फिजिकल रूप में हमारे साथ मौजूद रहेंगे। अब वर्चुअली जुड़ने का सवाल ही नहीं है। 20 अक्टूबर को वह यहां आ रहे हैं औऱ उपचुनाव के पहले वह शेर की तरह दहाड़ेंगे।


चुनाव प्रचार अभियान में हिस्सा लेंगे लालू यादव

गुरूवार को राजद की तरफ से बिहार विधानसभा उपचुनाव के लिए स्टार प्रचारकों की सूची जारी की गई थी। 20 सदस्यीय सूची में जहां बड़े बेटे तेजप्रताप यादव का नाम गायब था। वहीं राजद सुप्रीमो का नाम सबसे ऊपर था। इसी के बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि वह उपचुनाव से पहले ही बिहार पहुंच जाएंगे। और हुआ भी बिल्कुल वैसा ही। 

पार्टी को मजबूत करने में होंगे मददगार

बिहार विधानसभा उपचुनाव दो सीटों, तारापुर और कुशेश्वर स्थान के लिए कराया जा रहा है। हालांकि परंपरागत रूप से दोनों ही जदयू की जीती हुई सीटें हैं, मगर राजद हर वह जोर आजमाइश में लगी है, कि वह दोनों सीटें उनके खाते में आ जाए। हालांकि इस सीट पर जहां मुकाबला राजद औऱ जदयू के बीच है। वहीं मैदान में कांग्रेस, जाप और अब तो तेजप्रताप यादव ने भी अलग उम्मीदवार उतारने की जंग छेड़ दी है। 

अब यह देखना लाजिमी होगा कि इस उपचुनाव में कौन-कौन सी पार्टियां उम्मीदवार उतारती हैं। वहीं लालू यादव के आने से राजद को कितनी मजबूती मिलेगी और विपक्षी दलों को कितना असर पड़ेगा, यह भी आने वाले कुछ दिनों में ही पता चलेगा।


Find Us on Facebook

Trending News