केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय ने विकास यात्रा का किया आयोजन, महाराष्ट्र के राज्यपाल, स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी और रोहित सिंह ने किया उद्घाटन

केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय ने विकास यात्रा का किया आयोजन, महाराष्ट्र के राज्यपाल, स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी और रोहित सिंह ने किया उद्घाटन

MUMBAI : भारतीय विद्या भवन के प्रेक्षागृह में केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित विकास यात्रा का उद्घाटन स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी,महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी,युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह,विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. श्रीनिवास वाराखेड़ी एवं अन्य गणमान्य लोगों ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

इस मौके पर स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की गंगा माई की सफ़ाई,अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण,काशी कारीडोर,उज्जैन में महाकाल कारीडोर,पूरी दुनिया में भारत की बढ़ रही प्रतिष्ठा पिछले 8 वर्षों में विकास यात्रा का प्रमाण है। स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की मोदी सरकार के कारण पूरी दुनिया में हमारे देश का इकबाल बढ़ा है। स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की युवा पीढ़ी को देश के प्रगति हेतु अधिक श्रमदान करना होगा। मुख्य अतिथि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी ने कहा की पूरी दुनिया में सिर्फ एक देश दिख रहा है वह है भारत। यह सिर्फ पिछले 8 साल की उपलब्धि है। राज्यपाल ने कहा की पंचवटी से त्रैयंबेकेश्वर तक भी कारीडोर बने तो अच्छा होगा। उन्होंने कहा की युवा पीढ़ी के कंधों पर नए भारत के निर्माण की ज़िम्मेवारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिना रुके देश के उत्थान हेतु काम कर रहे हैं। राज्यपाल ने कहा की मोदी सरकार के कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं है।

युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने कहा की औरंगजेब ने सनातनी मठ-मंदिरों को तोड़ा और पिछले 8 सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी,अयोध्या,उज्जैन,विंध्याचल सब जगह जीर्णोद्वार करवाया। सिंह ने कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साउथ कोरीया में प्राप्त हुए 1.30 करोड़ रुपया की राशि गंगा की सफ़ाई हेतु समर्पित कर दिया। जिसके लिए पूरी दुनिया में उनकी प्रशंसा हो रही है। सिंह ने कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उद्देश्य सिर्फ भारत माता की सेवा है। सिंह ने कहा की 1835 में लार्ड मैकाले ने हमारी शिक्षा व्यवस्था को नष्ट किया था। लेकिन देश की आजादी के बाद नेहरू सरकार ने उसमें कुछ परिवर्तन नहीं किया। मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति लागू कर भारतीय संस्कृति और सभ्यता का संवर्द्धन किया है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. श्रीनिवास वाराखेड़ी ने कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत विश्वगुरु बनने की ओर बढ़ चुका है। प्रो. वाराखेड़ी ने कहा की छात्रों को राष्ट्रनिर्माण के यज्ञ में अपना योगदान देना है। कार्यक्रम के दौरान विकास यात्रा पर अतिथियों के द्वारा स्मारिका का विमोचन भी हुआ। धन्यवाद ज्ञापन भारतीय विद्या भवन के डा. गिरीश जानी ने किया। प्रो. श्रीनिवास वाराखेड़ी ने आगंतुक अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।

Find Us on Facebook

Trending News