मंच पर नाराज हुए CM नीतीश, तल्ख तेवर में 'सचिव' से कहा- ''जल्दी से काम कराइए, पैसा.....रहे हैं जी?'', बगल में चुपचाप खड़े रहे मंत्रीद्वय

मंच पर नाराज हुए CM नीतीश, तल्ख तेवर में 'सचिव' से कहा- ''जल्दी से काम कराइए, पैसा.....रहे हैं जी?'', बगल में चुपचाप खड़े रहे मंत्रीद्वय

PATNA:  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज विधायक आवासन योजना के तहत विधायकों के लिए बनाये गये आवासों का उद्घाटन किया। इस दौरान सीएम नीतीश ने बन कर तैयार एक नये आवास का निरीक्षण भी किया। साथ ही विधायकों को नए आवास की चाभी सौंपी। हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विधायकों के लिए बन रहे आवास में हो रही देरी से काफी चिंतित दिखे। सीएम नीतीश की नाराजगी मंच पर ही दिख गई और भवन निर्माण विभाग के सचिव कुमार रवि को तल्ख निर्देश दिये।

तल्ख अंदाज में कहा- आप सिर्फ पैसा...रहे जी? 

राजधानी पटना के वीरचंद पटेल स्थित विधायकों के लिए बने आवासों का उद्घाटन करने पहुंचे सीएम नीतीश कुमार थोड़े तल्ख हो गये। उद्घाटन के बाद मंच पर जब अतिथियों का स्वागत किया जा रहा था,इसी दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार काम को लेकर नाराज दिखे। भवन निर्माण विभाग के सचिव 'कुमार रवि' सीएम नीतीश,विस अध्यक्ष,उपाध्यक्ष, मंत्री विजय चौधरी को किताब देकर सम्मानित करने के बाद, अंत में भवन निर्माण विभाग के मंत्री अशोक चौधरी को पुस्तक देकर स्वागत कर रहे थे, तभी सीएम नीतीश ने तल्ख तेवर में कहा,'' आप जल्दी से काम कराइए, पैसा.....रहे हैं जी?''  इसके बाद नीतीश ने और भी कुछ बातें कहीं,जिसे सुना नहीं जा सका. इस दौरान भवन निर्माण विभाग के सचिव कुमार रवि चुपचाप सुनते रहे. वहीं मुख्यमंत्री के बगल में वित्त मंत्री विजय चौधरी और भवन निर्माण विभाग के मंत्री अशोक चौधरी भी चुपचाप खड़े रहे। थोड़ी ही देर के बाद कार्यक्रम समाप्त हो गया।  

बता दें, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विधायकों को आवास मुहैया कराने को लेकर पांच साल पहले विधायक आवासन योजना की शुरूआत की थी।  वीरचंद पटेल पथ पर पुराने बंगलों, दरबारनुमा फ्लैट को तोड़कर सभी विधायकों के लिए माडर्न आवास का निर्माण किया जाना है। इस पर 450 करोड़ खर्च होना था। लेकिन काम में काफी देरी हुई। मामला कोर्ट तक पहुंचा। सरकार के काफी प्रयास के बाद भी विधायकों के लिए बनने वाला आवास पूर्ण नहीं हो सका था। अब जाकर नीतीश कुमार ने पूर्ण हुआ आवास की चाभी विधायकों को सौंपी है। हालांकि अभी भी साठ फीसदी से अधिक आवास का काम पूर्ण नहीं हो सका है। 


Find Us on Facebook

Trending News