बिहार में शिक्षक बहाली पर बोले सीएम नीतीश- 'सही तरीके से हुई या नहीं, जांच की जा रही है'

बिहार में शिक्षक बहाली पर बोले सीएम नीतीश- 'सही तरीके से हुई या नहीं, जांच की जा रही है'

पटना. जनता दरबार के बाद सीएम नीतीश ने मीडिया से बात की। इस दौरान उन्होंने मीडिया के सवाल पर बताया कि विद्यालयों में पढ़ाई और शिक्षकों की बहाली ठीक ढंग से हो, इसे देखना जरूरी है। शिक्षकों की बहाली को लेकर बहुत सारे मामले सामने आए हैं। यह जांच की जा रही है कि बहाली सही तरीके से हुई है या नहीं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की तरफ से यह बात कही गयी है कि ठीक ढंग से शिक्षकों की बहाली हो। हमलोग चाहते हैं कि शिक्षकों की बहाली और तेजी से हो। शिक्षा विभाग इस मामले को देख रहा है।

वहीं मातृ भाषा में प्राइमरी एजुकेशन देने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हमलोग यहां पर पहले से इसे किये हुए हैं। जिन भाषाओं को केंद्र सरकार से मान्यता मिली हुई है। हमलोग जब केंद्र सरकार में थे उसी समय कई भाषाओं को मान्यता मिली थी। पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी रेलवे से संबंधित एक कार्यक्रम में यहां आये हुए थे तो वहीं पर लोगों ने इसको लेकर मांग की थी, जिसे अटल जी ने स्वीकार किया था। कई भाषाओं को केंद्र सरकार से ही मंजूरी मिली हुई है। जिन भाषाओं को मान्यता नहीं मिली है, उसको लेकर भी केंद्र सरकार से आग्रह किया जाता है ताकि उनको भी मान्यता मिल जाय। स्थानीय भाषाओं की काफी महत्ता है।

वहीं देश के कई राज्यों में राज्यसभा चुनाव के दौरान हुई क्रॉस वोटिंग से संबंधित प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन राज्यों में यह सब होता है, वहीं के लोगों से यह सवाल पूछिए। यहां 2012 से राज्यसभा का चुनाव सर्वसम्मति से होता है। पहले यहां भी ऐसा कुछ होता था, लेकिन बाद में सभी पार्टी के लोग इस पर सहमत हुए और उसके बाद से यहां राज्यसभा और विधान परिषद् का चुनाव सर्वसम्मति से होता है। दूसरे राज्यों को बिहार जैसे राज्यों के अनुभव लाभ उठाना चाहिए। यहां राज्यसभा एवं विधान परिषद् के चुनाव में आम सहमति के आधार पर फैसला होता है। जिन राज्यों में सर्वसम्मति से चुनाव नहीं होता है वहां के लोगों को इसको लेकर सोचना चाहिए।

Find Us on Facebook

Trending News