CM-PK की हुई मुलाकातः कभी 'नीतीश' ने प्रशांत किशोर को किया था बाहर, जिस पवन वर्मा को नीतीश ने किया था 'आउट' वही बने 'सेतु'

CM-PK की हुई मुलाकातः कभी 'नीतीश' ने प्रशांत किशोर को किया था बाहर, जिस पवन वर्मा को नीतीश ने किया था 'आउट' वही बने 'सेतु'

PATNA: प्रशांत किशोर और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच मुलाकात हुई है। मंगलवार की शाम सीएम हाऊस में दोनों की मुलाकात हुई है। करीब दो घंटे की मुलाकात में पवन वर्मा भी साथ थे। यानी नीतीश कुमार ने पवन वर्मा को इसी काम में लगाया था। कभी नीतीश कुमार ने जेडीयू के वरिष्ठ नेता रहे पवन वर्मा को बाहर कर दिया था। लेकिन समय ने करवट लिया तो एक बार फिर से पवन वर्मा काम के नेता बन गये. वही पवन वर्मा ने प्रशांत किशोर को मुख्यमंत्री आवास ले गये और बैठक कराई। कभी नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर को जेडीयू में शामिल करा नंबर-2 की कुर्सी यानि राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया था। फिर उन्हें पार्टी से अलग भी कर दिया गया था। 

मंगलवार की शाम हुई मुलाकात 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दोनों के बीच घंटे भर से अधिक की मीटिंग हुई। दोनों के बीच वर्तमान राजनीतिक हालत पर चर्चा की गई। नीतीश कुमार इस कोशिश में जुटे हैं कि एक बार फिर से प्रशांत किशोर साथ आयें. इसके लिए नीतीश कुमार ने पवन वर्मा को पटना बुलाया था। वे मंगलवार को पटना में थे और नीतीश कुमार और प्रशांत किशोर से अलग-अलग मुलाकात की थी। इसके बाद पवन वर्मा ने प्रशांत किशोर को सीएम हाऊस ले गये। इस तरह से मंगलवार की शाम दोनों नेता साथ बैठे। हालांकि खबर आउट होने के बाद प्रशांत किशोर मुलाकात की खबर का खंडन कर रहे हैं. बता दें, प्रशांत किशोर इन दिनों लगातार बिहार में कैंप किये हुए हैं. वे 2 अक्टूबर से चंपारण से जन सुराज यात्रा पर निकलने वाले हैं। प्रशांत किशोर इन दिनों नीतीश कुमार की नीतियों की खुलकर विरोध कर रहे थे। 

पवन वर्मा बने सेतु

पटना में मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत में जेडीयू के पूर्व राज्यसभा सांसद पवन वर्मा ने कहा था कि प्रशांत किशोर से हमारी मुलाकात हुई है। हमारी मुलाकात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी हुई है। मेरे मन में नीतीश कुमार के लिए स्नेह और सम्मान है। हमने नीतीश जी के लिए फॉरेन सर्विस की नौकरी छोड़ दी थी। उन्होंने कहा कि एनआरसी के मुद्दे पर हमारा मत पार्टी से भिन्न था,लिहाजा जेडीयू नेतृत्व ने हमें निष्कासित कर दिया था। हम तकनीकि रूप से जेडीयू में नहीं हैं,इसके बाद भी हमारी मुलाकात नीतीश कुमार से होते रही है। उन्होंने कहा कि अब बिहार में  महागठबंधन की सरकार बनी है. ऐसे में हमने सोचा कि मुख्यमंत्री बने हैं तो उन्हें बधाई दें. पवन वर्मा ने कहा कि प्रशांत किशोर से भी हमारी मुलाकात हुई है. लेकिन नीतीश कुमार से मिलने संबंधी कोई बातचीत नहीं हुई है। पीके मेरे करीबी हैं, उनसे मुलाकात और बातचीत होते रहती है.  

नीतीश कुमार द्वारा विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि सीएम नीतीश विपक्षी पार्टियों को एकजुट कर रहे हैं, वह सराहनीय कार्य है. मेरा सहयोग उसमें क्या होगा, इस पर नीतीश जी को भी निर्णय लेना और मुझे भी .वे अपने मुहिम में सफल हो इसकी मैं इसकी शुभकामना देने आया हूं. हर विपक्षी नेता के मन में नीतीश कुमार के लिए सम्मान है.उन्होंने आगे कहा कि मैं फिर से जदयू में वापस आऊंगा, इस पर फिलहाल कोई बातचीत नहीं हुई है .बिहार में फिल्डिंग कर रहे प्रशांत किशोर क्या फिर से नीतीश कुमार के साथ आयेंगे? इस सवाल पर पवन वर्मा ने कहा कि यह फैसला उन्हें लेना है. जहां तक मेरी घर वापसी की बात है, उस पर अभी बातचीत नहीं हुई है. 

Find Us on Facebook

Trending News