कांग्रेस का दावा, पीएम की सुरक्षा में नहीं हुई कोई चूक बल्कि पंजाब में किसानों ने की मोदी की घर वापिसी

कांग्रेस का दावा, पीएम की सुरक्षा में नहीं हुई कोई चूक बल्कि पंजाब में किसानों ने की मोदी की घर वापिसी

दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी की सुरक्षा चूक पर पंजाब की कांग्रेस सरकार भाजपा के निशाने पर है. वहीं कांग्रेस ने आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा है कि पीएम मोदी की फिरोजपुर रैली में भीड़ नहीं जुटने के कारण मोदी ने बीच रास्ते से दिल्ली लौटने का फैसला लिया. अब इसे सुरक्षा चूक बचाकर भाजपा को पंजाब में जनता द्वारा नकारने पर मोदी और भाजपा पर्दा डाल रहे हैं. 

पीएम मोदी बुधवार सुबह बठिंडा पहुंचे, जहां से उन्हें हेलिकॉप्टर से हुसैनीवाला स्थित राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाना था. बारिश और खराब विजिबिलिटी की वजह से पीएम ने हैलिकॉप्टर की जगह सड़क मार्ग से फिरोजपुर जाने का निर्णय लिया. इसमें करीब 2 घंटे से अधिक समय लगता, हालाँकि उनका कारकेड हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक से लगभग 30 किलोमीटर दूर एक फ्लाईओवर पर था तो कुछ प्रदर्शनकारियों ने पीएम के काफिले की सड़क को अवरुद्ध कर दिया. पीएम मोदी 15-20 मिनट फ्लाईओवर पर फंसे रहे. यह पीएम की सुरक्षा में एक बड़ी चूक मानी जा रही है. 

युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा, जो लोग 750 किसानों की शहादत से नहीं बौखलाए, जिन लोगों को एक साल तक पंजाब के किसानों को सड़कों पर देखकर गुस्सा नहीं आया, जिस PM ने मेरे देश के अन्नदाता को सड़कों पर उनके हाल पर छोड़ दिया और कभी मुलाकात नहीं की, आज वो सभी लोग 'खाली-कुर्सियों' के चलते रद्द हुई रैली की वजह से दुखी है. उन्होंने कुछ फिरोजपुर भाजपा रैली की कुछ फोटो और वीडियो भी पोस्ट कर खाली कुर्सियों को दिखाया है. 


उन्होंने ट्वीट किया, मोदी जी की घर वापिसी की असली वजह ये है, बाकी दिल बहलाने के लिए ख्याल अच्छा है...! न दूल्हा आया, न बाराती आये और न शहनाई बज पायी. और पंजाब में किसानों ने की मोदी जी की घर वापिसी..! एक अन्य ट्वीट में लिखा है, BJP वाले बोल रहे है:- पंजाब में मौसम Cloudy था,  इसलिए Radar विशेषज्ञ रैली नही कर पाए. हकीकत में:- प्रधानमंत्री पंजाब पहुंच चुके थे, रैली में 90% कुर्सियां खाली थी, पूरे रास्ते, किसान मोदी का विरोध कर रहे थे, जिसके कारण मोदी जी वापिस दिल्ली रवाना हो गए. आखिरकार पंजाब में रैली नही कर पाए मोदी, किसान विरोधी मोदी के जोरदार स्वगात के लिए खाली कुर्सियां कर रही थी इंतजार, पंजाब पहुचने के बाबजूद किसानों के विरोध के चलते रद्द करनी पड़ी रैली.

वहीं कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के सवालों पर लिखा है. पीएम की रैली के लिए 10,000 सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए थे। सभी व्यवस्था एसपीजी और अन्य एजेंसियों के साथ मिलकर की गई थी। हरियाणा/राजस्थान के भाजपा कार्यकर्ताओं की सभी बसों के लिए भी रूट बनाया गया था। पीएम ने हुसैनीवाला के लिए सड़क यात्रा करने का फैसला किया। सड़क मार्ग से यात्रा करना उनके मूल कार्यक्रम का हिस्सा नहीं था। किसान मजदूर संघर्ष समिति (केएमएससी) पीएम के दौरे का विरोध कर रही है और केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत ने उनके साथ दो दौर की बातचीत की है। 

सुरजेवाला ने कहा है, क्या आप जानते हैं कि केएमएससी और किसान पीएम मोदी का विरोध क्यों कर रहे हैं? उनकी मांगें हैं- बर्खास्त एमओएस होम, अजय मिश्रा टेनी। हरियाणा, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में किसानों के खिलाफ आपराधिक मामले वापस लें। मरने वाले 700 किसानों के परिजनों को मुआवजा। एमएसपी पर समिति और एक त्वरित निर्णय। उन्होंने लिखा,  किसान आंदोलन के बाद मोदी सरकार ने इन वादों को पूरी तरह से नज़रअंदाज कर दिया। आखिर में रैली रद्द करने का कारण यह है कि मोदी जी को सुनने के लिए भीड़ नहीं थी. भाजपा के किसान विरोधी रवैये पर दोषारोपण का खेल बंद करो और आत्मनिरीक्षण करो।


Find Us on Facebook

Trending News