KAIMUR NEWS : दवा दुकानों में एएसडीएम ने की छापेमारी, कागजातों की हुई जांच

KAIMUR NEWS : दवा दुकानों में एएसडीएम ने की छापेमारी, कागजातों की हुई जांच

KAIMUR : इस मौसम में सर्दी,बुखार,खांसी और एंटीबायोटिक की दवा तबियत खराब होने पर उपयोग में लाये जाते हैं. उन दवाओं की कालाबाजारी की सूचना पर जिलाधिकारी ने टीम बनाकर अपर अनुमंडल पदाधिकारी मोहनिया को जांच करने के लिए दुर्गावती भेजा. दवा दुकानों पर एएसडीएम संजीत कुमार, ड्रग विभाग के कर्मी और स्थानीय थाना के सहयोग से छापामारी अभियान चलाया गया. जहां दुकानदार द्वारा दवा तो उचित मूल्य पर बेचते मिले. लेकिन दुकानदार के पास दवा बिक्री से संबंधित किसी प्रकार का कागजात नहीं दिखाया गया. 

जिन दवा का कागजात नहीं दिखाया गया. उस दवा को जप्त कर लिया गया. कई दुकानों में कुछ एक्सपायरी दवाई भी मिला है. उस दवा को भी जप्त कर लिया गया है. दरअसल जिला अधिकारी को सूचना मिला था की डेली उपयोग में आने वाली दवा पेरासिटामोल, अजिथ्रोमायसीन सहित कई दवाएं डेढ़ गुना से 2 गुना मूल्य पर ग्राहकों को दवा दुकानदार बेच रहे हैं. जिलाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी और ड्रग विभाग के साथ एक टीम का गठन किया. जिसे मोहनिया  अनुमंडल क्षेत्र में सभी दवा दुकानों का जांच कराने का दिशा निर्देश जारी किया गया. दुर्गावती पहुंचे अपर अनुमंडल पदाधिकारी दवा दुकानों पर खुद ही ग्राहक बनकर जाते और उनसे डेली उपयोग आने वाली दवाइयां की मांग करते और उसका मूल्य पूछते. जब अधिक मूल्य का मामला नहीं मिला तो उनके द्वारा दवा दुकानों के बिक्री की जांच की जाने लगी. जिसमें बिक्री से संबंधित दुकानों में  कैश मेमो और दवाई की जांच की गयी. 

इसकी जानकारी देते हुए चंद्रशेखर यादव सहायक औषधि नियंत्रक कैमूर ने बताया की जिलाधिकारी के आदेश के अनुसार आज हम लोगों ने दवा दुकानों का निरीक्षण किया. जिसमें कुछ एक्सपायर दवाएं पाई गई है. कुछ ऐसे औषधियां है, जिनका कागजात नहीं दिखाया गया है. इनको समय दिया जाएगा. 20 दिन के अंदर यह अगर उस दवा का कागजात दिखा देते हैं तो दवा छोड़ दिया जाएगा. अन्यथा दवा को जप्त कर लिया जाएगा. यह लाइसेंसी प्रतिष्ठान है. इस पर हम लोग एक्टिव एक्शन लेंगे. इनको शो काउज करेंगे. संतोषजनक जवाब नहीं देते हैं तो सस्पेंशन के लिए कार्यवाही करेंगे. कैश मेमो में कुछ अनियमितता पाई गई है. सीरियल नंबर है. जो कुछ गड़बड़ी थी उसका हम लोग जांच कर रहे हैं. जांच के बाद स्पष्टीकरण करेंगे. स्पष्टीकरण आने के बाद यह निर्भर करता है कि इनके ऊपर किस तरह की कार्रवाई की जाए. 

कैमूर से देवब्रत की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News