दवाओं की कालाबाजारी को लेकर आधा दर्जन दुकानों पर हुई छापेमारी, दुकानदारों में मचा हड़कंप

दवाओं की कालाबाजारी को लेकर आधा दर्जन दुकानों पर हुई छापेमारी, दुकानदारों में मचा हड़कंप

KAIMUR : बिहार में कोरोना संक्रमण के बढ़ते रफ्तार पर कैसे काबू पाया जाये. इसके लिये सरकार हर प्रयास में जुटी हुई है. राज्य सरकार ने लॉक डाउन का एलान किया है. जिससे कोरोना संक्रमण के चेन को तोडा जा सके. लेकिन कुछ चंद लोग इस वैश्विक महामारी में भी कालाबाजारी में जुट चुके हैं. ऐसा ही मामला कैमूर में सामने आया है. जहां महामारी में दवाओं की कालाबाजारी करते पकड़े गये हैं. आपको बता दें कि कैमूर जिले में इस मौसम में सर्दी, बुखार, खांसी और एंटीबायोटिक की दवा जो उपयोग में आने वाले हैं. 

उन दवाओं के कालाबाजारी की सूचना पर जिलाधिकारी ने टीम बनाकर अपर अनुमंडल पदाधिकारी मोहनिया को जांच करने के लिए कुदरा भेजा. जहां आधा दर्जन से अधिक दवा दुकानों पर एएसडीएम संजीत कुमार, ड्रग विभाग के कर्मी और स्थानीय थाना के सहयोग से छापामारी अभियान चलाया गया. जिसमें कई दुकानदार दवा तो उचित मूल्य पर बेचते मिले. लेकिन कई दुकानदारों ने दवा बिक्री से संबंधित किसी प्रकार का कागजात नहीं दिखाया, जिसके बाद उन सभी को अनुमंडल कार्यालय में सोमवार तक दवा बिक्री संबंधित कैश मेमो दिखाने का निर्देश दिया गया. दरअसल जिला अधिकारी को इस विषय में जानकारी मिली की डेली उपयोग में आने वाली दवा पेरासिटामोल, अजिथ्रोमायसीन सहित कई दवाएं डेढ़ गुना से 2 गुना मूल्य पर ग्राहकों को दवा दुकानदार बेच रहे हैं.  

जिलाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी और ड्रग विभाग के साथ एक टीम का गठन किया जो मोहनिया अनुमंडल क्षेत्र में सभी दवा दुकानों का जांच कराने का दिशा निर्देश दिया गया है. जहां कुदरा पहुंचे अपर अनुमंडल पदाधिकारी दवा दुकानों पर खुद ही ग्राहक बनकर गए और उनसे डेली उपयोग में आने वाली दवाइयां की मांग की. दवा का मूल्य अधिक होने का मामला कुदरा में नहीं मिला. लेकिन दवा दुकानों के बिक्री की जांच की जाने लगी तो बिक्री से संबंधित कई दुकानों में किसी भी प्रकार का कैसमेमो नहीं प्राप्त हुआ. घटना की जानकारी देते हुए अनुमंडल पदाधिकारी संजीत कुमार ने बताया की जिलाधिकारी के द्वारा दवा कालाबाजारी की सूचना पर छापामारी करने का निर्देश दिया गया था. कुदरा के कई दुकानों पर छापामारी हुई है. यह सभी दवा तो उचित मूल्य पर बेचते थे. लेकिन इनके पास दवा बिक्री से संबंधित किसी प्रकार का कैश मेमो नहीं मिला है. सभी को सोमवार तक का मोहनिया अनुमंडल कार्यालय में दिखाने का निर्देश दिया गया है. सोमवार को नहीं दिखाने पर कार्रवाई की जाएगी. 

वहीँ गोपालगंज में लॉक डाउन का उल्लंघन कर दुकान चलाना दुकानदार को महंगा पड़ गया. सदर एसडीएम उपेंद्र पाल ने कुचायकोट के सासामुसा में छापामारी कर 16 दुकानों को सील किया है. सासामुसा स्टेशन रोड में कपडा कारोबारी रामराज प्रसाद, संत कुमार, शगुन साड़ी सेंटर, हीरालाल महंगू प्रसाद, नवल रेडीमेड स्टोर, बर्णवाल रेडीमेड स्टोर सहित 16 दुकानों को सील कर दिया है. आपको बता दें कि दूकानदार शटर को अंदर से बंद कर ग्राहक को प्रतिदिन बिक्री कर रहें थे.

कैमूर से देवब्रत और गोपालगंज से एस के श्रीवास्तव की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News