कुढ़नी में मिली हार से महागठबंधन में मचा हाहाकार, कमान नीतीश से छीनकर तेजस्वी को सौंपने की उठी मांग

कुढ़नी में मिली हार से महागठबंधन में मचा हाहाकार, कमान नीतीश से छीनकर तेजस्वी को सौंपने की उठी मांग

पटना. कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव में जदयू को मिली हार के बाद महागठबंधन में हाहाकार मचा हुआ है. चुनाव परिणाम आते ही अब महागठबंधन के दलों की ओर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से गद्दी छोड़ने की मांग भी की जाने लगी है. महागठबंधन नेताओं की ओर से एक ओर नीतीश कुमार को सीएम की कुर्सी तेजस्वी यादव को देने की बात की जा रही है. वहीं दूसरी ओर नीतीश कुमार से शराबबंदी जैसे निर्णय पर पुनर्विचार करने की मांग भी उठने लगी है. एक प्रकार से कुढ़नी ने महागठबंधन में भीतर भूचाल मचा दिया है. नीतीश कुमार अब अपने की घटक दलों के नेताओं से घिरने लगे हैं. 

कुढ़नी के पूर्व विधायक अनिल सहनी ने नीतीश कुमार पर जमकर प्रहार किया है. उन्होंने कहा है कि जब कुढ़नी की सीट पर 2020 में राजद को जीत मिली थी तो कैसे जदयू ने वहां से उम्मीदवार उतार दिया. आरजेडी के पूर्व विधायक अनिल सहनी ने कहा कि कुढ़नी उपचुनाव परिणाम के बाद नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद छोड़ देना चाहिए और तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री बनाना चाहिए. दरअसल, अनिल सहनी की विधायकी जाने के बाद ही चुनाव आयोग ने कुढ़नी में उपचुनाव कराया और यहां से जदयू ने उम्मीदवार उतारा. लेकिन जदयू के मनोज कुशवाहा को भाजपा के केदार गुप्ता से हार का सामना करना पड़ा.

इतना ही चुनाव में मिली हार के बाद पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हम ने भी जदयू को घेरा है. नीतीश की शराबबंदी पर सवाल उठाया. हम ने पासी समाज के लोगों को शराबबंदी के कारण हो रही परेशानी को लेकर इस पर नीतीश कुमार से पुनर्विचार करने की मांग की है. इसी तरह कई अन्य नेताओं ने कुढ़नी में अति पिछड़ा वर्ग और पिछड़ा सहित मुस्लिम समुदाय का वोट जदयू से बड़े स्तर पर भाजपा की ओर से शिफ्ट होने पर तीखी बयानबाजी की है. 

जदयू नेता उपेंद्र कुशवाहा ने तो ट्विट कर नीतीश कुमार मुश्किलें बढ़ा दी. उन्होंने चुनाव में जदयू को मिली हार के बाद ट्विट किया - क्या हार में, क्या जीत में किंचित नहीं भयभीत मैं । कर्तव्य पथ पर जो मिला यह भी सही वो भी सही ।। ... उन्होंने लिखा, कुढ़नी के परिणाम से हमें बहुत कुछ सीखने की ज़रूरत है। पहली सीख- “जनता हमारे हिसाब से नहीं बल्कि हमें जनता के हिसाब से चलना पड़ेगा।” कुशवाहा का यह ट्विट इस संदर्भ में देखा जा रहा है कि वे नीतीश सरकार की कुछ नीतियों को जन विरोधी बता रहे हैं. इसी कारण उन्होंने सुझाव देते हुए लिखा कि हमें जनता के हिसाब से चलना पड़ेगा. 

हालांकि इस उठापटक के बीच उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने फ़िलहाल सिर्फ यही कहा है कि हम लोग चुनाव में मिली जदयू उम्मीदवार की हार की समीक्षा करेंगे. इसके उलट सीएम नीतीश कुमार और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह की ओर से अब तक कोई बयान नहीं आया है. दूसरी ओर भाजपा लगातार इस चुनाव के बहाने नीतीश कुमार को घेर रही है. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल, नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा, विधान परिषद में विपक्ष के नेता सम्राट चौधरी सहित कई अन्य नेताओं ने कहा कि नीतीश कुमार जिस तरह से सीएम पद की कुर्सी के लिए जनादेश का अपमान कर रहे हैं, कुढ़नी की जनता ने उन्हें इसका सबक सिखाया है. 


Find Us on Facebook

Trending News