कोरोना पर राज्यों को मोदी का संदेश – आखिरी विकल्प के रूप में करें लॉकडाउन का प्रयोग

कोरोना पर राज्यों को मोदी का संदेश – आखिरी विकल्प के रूप में करें लॉकडाउन का प्रयोग

New Delhi : एक तरफ कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्यों में लॉकडाउन लगा दिया गया है, वहीं दूसरी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने संबोधन लॉकडाउन को आखिरी विकल्प बताया है। पिछले 13 महीने में आठवीं बार देश के नाम अपने संबोधन में राज्यों को लॉकडाउन से बचने की सलाह दी। प्रधानमंत्री ने अपने संदेश से यह साफ कर दिया है कि केंद्र सरकार अभी देशभर में लॉकडाउन लगाने के बारे में नहीं सोच रही। जिसका फायदा कामकाजी मजदूरों को मिलेगा।

उन्होंने कहा ‘साथियों! आज की स्थिति में हमें देश को लॉकडाउन से बचाना है। मैं राज्यों से भी अनुरोध करूंगा कि वे लॉकडाउन को अंतिम विकल्प के रूप में ही इस्तेमाल करें। लॉकडाउन से बचने की भरपूर कोशिश करनी है। पीएम ने माइक्रो कंटेनमेंट जोन पर जोर देते हुए कहा कि इस पर ज्यादा ध्यान केंद्रीत करें। मोदी ने नवरात्र, राम नवमी और रमजान का जिक्र किया। वैक्सीन, ऑक्सीजन और दवाओं की सप्लाई के बारे में बताया और फ्रंटलाइन वर्कर्स का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि बड़ों को बिना जरूरत घर से बाहर निकलने से रोकने में बच्चे अहम भूमिका निभा सकते हैं।

प्रवासी मजदूरो के लिए अपील

पीएम ने कहा, "मेरा राज्य प्रशासन से आग्रह है कि वो श्रमिकों का भरोसा जगाए रखें, उनसे आग्रह करें कि वो जहां हैं, वहीं रहें। राज्यों द्वारा दिया गया ये भरोसा उनकी बहुत मदद करेगा कि वो जिस शहर में हैं, वहीं पर अगले कुछ दिनों में वैक्सीन भी लगेगी और उनका काम भी बंद नहीं होगा।" उन्होंने प्रवासी श्रमिकों को टीका लगाए जाने का भी भरोसा दिलाया है।

पिछली बार से स्थिति बेहतर

प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में कहा कि पिछली बार जो परिस्थितियां थीं, वो अभी से काफी अलग थीं। तब हमारे पास इस महामारी से लड़ने के लिए कोरोना स्पेसिफिक मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर नहीं कोरोना टेस्टिंग के लिए पर्याप्त लैब नहीं थे, पीपीई का कोई प्रोडक्शन नहीं था, ट्रीटमेंट के बारे में खास जानकारी भी नहीं थी, लेकिन बहुत ही कम समय में हमने इन चीजों में सुधार किया। आज डॉक्टरों ने कोरोना के इलाज की बहुत ही अच्छी एक्सपर्टाइज हासिल कर ली है। वे ज्यादा से ज्यादा जीवन बचा रहे हैं।’

ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ाने के निर्देश

मरीजों को हो रही ऑक्सीजन की कमी को लेकर उन्होंने कहा कि  केंद्र सरकार, राज्य सरकारें, प्राइवेट सेक्टर, सभी की पूरी कोशिश है कि हर जरूरतमंद को ऑक्सीजन मिले। ऑक्सीजन प्रोडक्शन और सप्लाई को बढ़ाने के लिए भी कई स्तरों पर उपाय किए जा रहे हैं। राज्यों में 1 लाख नए सिलेंडर पहुंचाने हों, उद्योगों में इस्तेमाल हो रही ऑक्सीजन का मेडिकल हो, ऑक्सीजन रेल हो, हर प्रयास किया जा रहा है।’

दुनिया का सबसे मजबूत फार्मा सेक्टर हमारे पास
 पीएम ने कहा कि ‘इस बार फार्मा सेक्टर ने दवाओं का उत्पादन बढ़ा दिया है। आज जनवरी-फरवरी की तुलना में कई गुना ज्यादा दवाओं का प्रोडक्शन हो रहा है। इसे अभी और तेज किया जा रहा है। प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए दवा कंपनियों की मदद ली जा रही है। हम सौभाग्यशाली हैं कि हमारे देश के पास इतना मजबूत फार्मा सेक्टर है जो बहुत अच्छी और तेजी से दवाएं बनाता है। इसके साथ ही अस्पतालों में बेड की संख्या को बढ़ाने का काम भी तेजी से चल रहा है। 



Find Us on Facebook

Trending News