कोरोना और ओमिक्रॉन से डरी दिल्ली, नहीं खुलेंगे स्कूल कालेज, बाजार-दुकान खोलने पर भी लागू हुआ प्रतिबंध

कोरोना और ओमिक्रॉन से डरी दिल्ली, नहीं खुलेंगे स्कूल कालेज, बाजार-दुकान खोलने पर भी लागू हुआ प्रतिबंध

नई दिल्ली. ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे को देखते हुए दिल्ली में स्कूल कालेज बंद कर दिए गए हैं। यलो अलर्ट लागू होने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में स्कूल कालेज बंद करने का निर्णय लिया है. हाल के दिनों में दिल्ली में कोरोना और ओमिक्रोन के मामले लगातार बढ़े हैं. विशेषकर कोरोना संक्रमण की दर तेजी से ज्यादा हुई है. मंगलवार को अरविन्द केजरीवाल की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद स्कूल और कॉलेज बंद करने का निर्णय लिया है. बैठक के बाद ऐलान किया कि ग्रेप लागू किया जा रहा है. ग्रेप लागू किए जाने के तहत पहला स्टेज ही यलो अलर्ट का होता है. इसके तहत तमाम चीजों पर पाबंदियां लागू हो जाती है.

ग्रेप को चार रंगों में बांटा गया है, यदि स्थितियां बिगड़ने लगती है तो उसी हिसाब से यलो, आरेंज और रेड अलर्ट जारी कर दिया जाता है. रेड अलर्ट जारी होने पर पूरी तरह से लॉकडाउन लगा दिया जाता है. वहीं यलो अलर्ट लागू हो जाने के बाद दुकानें और मॉल सुबह 10 से रात 8 बजे तक खुलेंगे. 

दिल्ली में शादी समारोह और अंतिम संस्कार में सिर्फ 20 लोगों के शामिल होने की अनुमति होगी. सिनेमा हॉल, जिम, स्पा बंद रहेंगे जबकि रेस्त्रां 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खुलेंगे. वहीं निजी दफ्तर में 50 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति की अनुमति होगी. बिना मास्क पहने लोगों पर जुर्माना लगाया जाएगा. वहीं विदेश से यात्रा कर लौटे लोगों को अनिवार्य रूप से जाँच कराना होगा और नियमों के तहत खुद को पृथक रखना होगा. अगर कोई मेडिकल इमरजेंसी होती है उसके लिए भी दिल्ली सरकार ने खुद को तैयार रखने की बात कही है. 

न सिर्फ दिल्ली बल्कि देश में ओमिक्रॉन के मामलों में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार सोमवार को एक दिन में सबसे ज्यादा 135 मामले दर्ज हुए हैं, जिससे कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 687 हो गई. सोमवार को गोवा और मणिपुर में भी ओमिक्रॉन ने दस्तक दे दी. ओमिक्रॉन अब तक 21 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में फैल गया है.

इस बीच कोरोना से लड़ाई के लिए देश में तीन नए ‘हथियार’ के उपयोग को मंजूरी मिल गई है. कोरोना से लड़ाई यानी वैक्सीनेशन के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने दो वैक्सीन कोर्बेवैक्स, कोवोवैक्स और एंटी-वायरल ड्रग मोलनुपिराविर के इमरजेंसी यूज की मंजूरी दी है. स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने इस फैसले पर देश को बधाई दी है. उन्होंने बढाई देते हुए स्पष्ट किया है कि इसका उपयोग आपातकालीन सेवाओं में किया जाए. 

सीरम इंस्टीच्यूट ऑफ इंडिया की एक वैक्सीन (कोवोवैक्स), बायोलॉजिकल ई की वैक्सीन (कोरबेवैक्स) और कोविड-19 के खिलाफ लड़ने वाली एंटी-वायरल पिल मोलनुपिराविर के आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है. भारत के ड्रग रेगुलेटर के अंतर्गत आने वाली सबजेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (एसईसी) ने सीरम इंस्टीच्यूट ऑफ इंडिया सहित अन्य के तीनों उत्पाद को इमरजेंसी यूज की मंजूरी दी है. इनके इमरजेंसी के वक्त इस्तेमाल करने संबंधी एक सिफारिश ड्रग कंट्रोल जनरल ऑफ इंडिया यानी डीसीजीआई को भेज दी गई है. अब इस पर डीसीजीआई जल्द ही कोई अहम फैसला लेगा. 


Find Us on Facebook

Trending News