दरभंगा में डीएम राजीव रौशन ने ग्रहण किया पदभार, निवर्तमान डीएम डॉ. त्यागराजन एस.एम को दी गयी विदाई

दरभंगा में डीएम राजीव रौशन ने ग्रहण किया पदभार, निवर्तमान डीएम डॉ. त्यागराजन एस.एम को दी गयी विदाई

DARBHANGA : जिले के नव पदस्थापित जिलाधिकारी राजीव रौशन ने डीएम डॉ. त्यागराजन एस.एम से दरभंगा जिला का पदभार ग्रहण किया। पदभार ग्रहण होने के बाद बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर सभागार में आयोजित विदाई समारोह में जिला प्रशासन के पदाधिकारियों की ओर से उप विकास आयुक्त तनय सुल्तानिया व अपर समाहर्त्ता विभूति रंजन चौधरी द्वारा पाग और चादर से दोनों जिलाधिकारी को बारी बारी से सम्मानित किया गया। विदाई समारोह में कार्यालय अधीक्षक, दरभंगा द्वारा सभी कर्मियों की ओर से दोनों जिलाधिकारी को पाग और चादर से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर निवर्तमान जिलाधिकारी के कार्यकाल का उल्लेख करते हुए अपर समाहर्ता ने कहा कि बाढ़, निर्वाचन, कोविड-19 महामारी के दौरान एवं अन्य प्रशासनिक मसलों को कुशलता पूर्वक हल करने के लिए निवर्तमान जिलाधिकारी याद किये जाते रहेंगे। उप विकास आयुक्त ने विदाई समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें निवर्तमान जिलाधिकारी के साथ विगत 14 महीने कार्य करने का अवसर प्राप्त हुआ और उन्होंने बाढ़, निर्वाचन, कोविड-19 महामारी के दौरान निवर्तमान जिलाधिकारी की कार्यकुशलता की प्रशंसा की। उन्होंने कहा की गर्भवती महिलाओं के लिए वंडर एप्प का प्रयोग की सराहना राज्य स्तर पर की गई और इसका प्रयोग पूरे बिहार में करने का निर्णय लिया गया। जन समस्याओं का निराकरण भी जिलाधिकारी द्वारा त्वरित व कुशलता से किया गया। जिसके कारण आम जनता के साथ जनप्रतिनिधि भी जिलाधिकारी के कार्य की तारीफ करते हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक सप्ताह ग्रामीण विकास विभाग के कार्यों की राज्यस्तरीय समीक्षा के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान नव पदस्थापित जिलाधिकारी से मुलाकात होती रही है। साथ ही वैशाली एवं सीतामढ़ी पदस्थापन के दौरान ओडीएफ की शुरुआत इनके द्वारा ही किया गया, जो पूरे राज्य के लिए एक मिसाल बना। उन्होंने कहा कि दरभंगा जिला को भी नव पदस्थापित जिलाधिकारी से काफी उम्मीद रहेगी।

विदाई समारोह को संबोधित करते हुए नव पदस्थापित जिलाधिकारी राजीव रौशन ने निवर्तमान जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एस. एम को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इनका पदस्थापन गया जिला में हुआ है और पूर्व में जहां भी ये काम किए हैं वहां उन्होंने अपनी कार्यशैली की अमिट छाप छोड़ी है। जिले की योजनाओं की राज्यस्तरीय समीक्षा के दौरान मैंने देखा है कि ये अपने जिले की योजनाओं और आकांक्षाओं को कितनी तत्परता पूर्वक रखते रहे हैं। उन्होंने कहा कि निवर्तमान जिलाधिकारी यहां के पदाधिकारियों, कर्मियों और आम जन के सहयोग से सरकार की योजनाओं और आकांक्षाओं को ऊंचाई तक पहुंचाया है। मेरी कोशिश रहेगी कि आप सब के सहयोग से मैं इसे और अधिक ऊंचाई तक ले जाऊं। नव पदस्थापित जिलाधिकारी ने कहा कि वर्तमान समय कोरोना की तीसरी लहर (ओमीक्रोन) का है और हमें इससे सुरक्षित रहने के लिए सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल का अक्षरश: पालन करना होगा। एन-95 मास्क या सर्जिकल मास्क के साथ कपड़े का मास्क का प्रयोग करना अनिवार्य रूप से करना होगा। केवल कपड़े का मास्क कोविड-19 से बचाव के लिए पर्याप्त नहीं है। उन्होंने कहा कि कार्यालय में भी कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुरूप पदाधिकारियों व कर्मियों को व्यवहार करना होगा। सबसे पहले जीवन की सुरक्षा आवश्यक है। उन्होंने कोरोना से बचाव के लिए शत प्रतिशत लोगों द्वारा मास्क का उपयोग को अनिवार्य बताया।

विदाई समारोह को संबोधित करते हुए निवर्तमान जिलाधिकारी ने सभी पदाधिकारियों एवं कर्मियों को उनके कार्यकाल के दौरान उन्हें सहयोग प्रदान करने के लिए धन्यवाद ज्ञापन किया। उन्होंने कहा कि उनके तीन साल के कार्यकाल में उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। जो वर्ष 2019 में जल संकट से शुरू हुआ, कोविड-19, बाढ़, चुनाव एवं उपचुनाव कोविड-19 की दूसरी लहर, पुनः बाढ़ की स्थिति सामने आई। लेकिन पदाधिकारियों, कर्मियों व आम जन के सहयोग से उपलब्ध संसाधन से सभी समस्या का समाधान करने का प्रयास किया। ताकि अधिक से अधिक लोगों को राहत पहुंचाई जा सके। आम जनों की समस्या के निराकरण का भी हर संभव प्रयास किया। उन्होंने कहा कि नव पदस्थापित जिलाधिकारी द्वारा भी खगड़िया, वैशाली व सीतामढ़ी जिला में पदस्थापन के दौरान कई उल्लेखनीय कार्य किए गए हैं जिनकी चर्चा राज्य स्तर पर भी होती है। 2016 में ओडीएफ की शुरुआत की गयी, जिसकी सफलता को देखकर बाकी जिला को भी करने का निर्देश दिया गया और इस अभियान को लेकर बिहार आगे बढ़ा और बहुत हद तक इसमें सफलता प्राप्त की गयी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना जीविका एवं जल-जीवन-हरियाली अभियान में भी इनके द्वारा राज्य स्तर पर अच्छे काम किए हैं। उन्होंने कहा की पूरी उम्मीद है कि यहां भी इनका कार्यकाल स्मरणीय रहेगा। उन्होंने कहा कि दरभंगा जिला में पदाधिकारियों, कर्मियों और आम लोगों का भी भरपूर सहयोग प्राप्त होता रहा है। कई जिलों में काम करने का मौका मिला। लेकिन, दरभंगा के कर्मियों में अनुशासन एवं कार्य निष्पादन की स्थिति बहुत अच्छी है। उन्होंने कहा कि दरभंगा एक बड़ा एवं ऐतिहासिक जिला है और यहां कार्य करने का अच्छा अवसर मिलता है। उन्होंने कहा कि कार्य करने के दौरान एक ही बात ध्यान में रखकर काम करना चाहिए कि जो समाज के निचले पायदान के लोग हैं। वे निःशब्द होते हैं। वे बोल नहीं पाते हैं। उन तक योजनाओं की लाभ पहुंचे, यह ध्यान रखना चाहिए, उनके कार्य के लिए हमें हमेशा तत्पर रहना चाहिए। उन्होंने सभी लोगों का धन्यवाद ज्ञापन किया और कहा कि जब भी उनकी जरूरत हो कोई भी कर्मी, पदाधिकारी सीधे संपर्क कर सकते हैं।

इस अवसर पर कार्यक्रम का संचालन जिला आपूर्ति पदाधिकारी अजय कुमार द्वारा किया गया। विदाई समारोह में जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी चंचल प्रकाश,अपर समाहर्ता विभागीय जांच अखिलेश प्रसाद सिंह, अपर समाहर्ता आपदा प्रबंधन अनिल कुमार सिन्हा, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी अजय कुमार, उप निदेशक जन संपर्क नागेंद्र कुमार गुप्ता सहित तमाम पदाधिकारी एवं कर्मी गण उपस्थित थे।

दरभंगा से वरुण ठाकुर की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News