शराबबंदी के बाद भी दर्जनों ने गटक ली शराब, 23 की मौत, 40 से ज्यादा हुए बीमार

शराबबंदी के बाद भी दर्जनों ने गटक ली शराब, 23 की मौत, 40 से ज्यादा हुए बीमार

DESK. शराबबंदी को भले ही कुछ राज्यों में जनकल्याण के रूप में पेश कर लागू किया गया हो लेकिन ऐसे राज्यों में चोरी-छिपे शराब बिकने और पीने वालों के साथ अक्सर हादसा होता रहता है. अब गुजरात में बोटाद जिले के रोजिद गांव में कथित तौर पर जहरीली शराब पीने से कम से कम 10 लोगों की मौत हो गयी, जबकि 20 अन्य बीमार पड़ गए जिन्हें उपचार के लिए विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार रात बताया कि कुछ मरीजों की हालत गंभीर है। 

पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। गुजरात आतंकवाद रोधी दस्ता (एटीएस) और अहमदाबाद अपराध शाखा भी जांच में शामिल हो गयी हैं। गुजरात के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) आशीष भाटिया ने बताया कि सुबह दो लोगों की मौत हुई थी जबकि पांच अन्य की इलाज के दौरान मौत हो गयी थी।

गुजरात में भी बिहार की भांति शराबबंदी है। बावजूद इसके वहां भी शराब जब्ती और शराब पीने के कई मामले उजागर होते रहते हैं। इसी तरह का यह मामला भी माना जा रहा है जिसमें कथित रूप से जहरीली शराब पीने से 10 लोगों की मौत जबकि 20 से ज्यादा के बीमार होने की खबर है। इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घटना पर दुख जताते हुए मंगलवार को कहा, बहुत ही दुःख की बात है कि, गुजरात में जहरीली शराब के कारण 23 से अधिक लोगो की मौत हुई है ओर 40 से ज्यादा लोग अस्पताल में है। सभी मृतकों को मैं श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ और इस दु:ख की घड़ी में पीड़ितों को मेरी संवेदना व्यक्त करने आज भावनगर अस्पताल जा रहा हूं।

अधिकारियों ने सोमवार देर रात बताया कि तीन और लोगों की इलाज के दौरान मौत हो गयी। बोटाद के पुलिस अधीक्षक करनराज वाघेला ने सोमवार देर रात पत्रकारों से कहा, ‘‘हमारी जानकारी के अनुसार, बोटाद जिले के पांच लोगों और अहमदाबाद जिले की ढांढुका तालुक के दो गांवों के पांच लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। कम से कम 20 लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है, ज्यादातर लोग भावनगर में सर तख्तसिंहजी अस्पताल में भर्ती हैं। उनमें से कुछ की हालत नाजुक है।’’ 

उन्होंने बताया कि इस सिलसिले में दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज किया गया है और कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। वाघेला ने कहा, ‘‘अगर जरूरत पड़ी तो पुलिस हत्या का आरोप भी जोड़ेगी। गुजरात एटीएस के साथ ही अहमदाबाद अपराध शाखा भी दोषियों को पकड़ने के लिए हमारी जांच में शामिल हो गयी हैं।’’


Find Us on Facebook

Trending News