जब DEO के सामने लगी 'जनरल' कुर्सी पर बैठे शिक्षा विभाग के सबसे बड़े अधिकारी, चहुंओर हो रही चर्चा,देखें तस्वीर...

जब DEO के सामने लगी 'जनरल' कुर्सी पर बैठे शिक्षा विभाग के सबसे बड़े अधिकारी, चहुंओर हो रही चर्चा,देखें तस्वीर...

PATNA: बिहार में अमूमन नेता या बड़े अधिकारी किसी छोटे सरकारी दफ्तर में जाते हैं झट से उस दफ्तर के प्रमुख की कुर्सी पर विराजमान हो जाते हैं और वो अधिकारी अपनी कुर्सी छोड़ बगल की छोटी कुर्सी पर बैठ जाता है। डीएम अगर एसडीओ दफ्तर गये तो एसडीओ की कुर्सी पर बैठते हैं वहीं एसडीओ अगल बीडीओ दफ्तर गये तो बीडीओ की कुर्सी पर बैठते हैं। अगर नेताओं की बात करें विधायक भी अगर प्रखंड कार्यालय या अन्य सरकारी दफ्तर जाते हैं तो अधिकारी की कुर्सी पर बैठने में अपनी शान समझते हैं. कई दफे कुर्सी पर बैठने को लेकर विवाद भी होते आया है। अब एक नई तस्वीर देखने को मिली है जब बिहार के एक विभाग के सबसे बड़े अधिकारी भ्रमण के लिए जिला में गए तो अपने से काफी छोटे यानी जिला स्तरीय अधिकारी की कुर्सी पर नहीं बल्कि उनके सामने की कुर्सी जिस पर आम लोग बैठ कर अपनी समस्या बताते हैं उस पर बैठे। शिक्षा विभाग के सबसे बड़े अधिकारी की इस विनम्रता की चहुंओर चर्चा हो रही है।  

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव की चहुंओर हो रही चर्चा

दरअसल शिक्षा विभाग के सबसे बड़े अधिकारी यानी अपर मुख्य सचिव संजय कुमार 8 अप्रैल को सासाराम के दौरे पर थे। वे सासाराम जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय गये। अपने विभाग के सबसे बड़े अधिकारी के अपने दफ्तर आने की सूचना से ही डीईओ साहब टेंशन में थे। लेकिन जब शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार उनके दफ्तर पहुंचे तो उन्होंने डीईओ के सामने लगी कुर्सी पर बैठ गये। अपर मुख्य सचिव डीईओ की कुर्सी पर बैठने की बजाए सामने लगी कुर्सी पर बैठ गये और जिला शिक्षा पदाधिकारी को अपनी कुर्सी पर बैठने को कहा। इस दौरान अपर मुख्य सचिव ने डीईओ से जिले में चल रही योजनाओं के संबंध में जानकारी ली।

खुद डीईओ के सामने जनरल कुर्सी पर बैठ गये संजय कुमार 

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार के इस विनम्र व्यवहार से सब भौचक्के रह गये। लोगों को सहसा यह विश्वास ही नहीं हो रहा था कि शिक्षा विभाग का अपर मुख्य सचिव  जिला शिक्षा पदाधिकारी के सामने लगी कुर्सी पर बैठ सकता है ? इस तस्वीर के सामने आने के बाद सोशल मीडिया में यह चर्चा चल रही है कि इस तरह की तस्वीर आज कल कहां देखने को मिलती है.......यह तो विनम्रता और सहज व्यक्तित्व का बड़ा उदहारण है। निरीक्षण के दौरान DEO को उनकी ही कुर्सी पर बैठने कहा और खुद सामने लगी जनरल कुर्सी पर बैठे।


Find Us on Facebook

Trending News