लखीसराय डीएम के आदेश के बाद भी बेपरवाह रहे अधिकारी, बड़हिया रेलवे स्टेशन पर दंडाधिकारी ड्यूटी से गायब रहे कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा

लखीसराय डीएम के आदेश के बाद भी बेपरवाह रहे अधिकारी, बड़हिया रेलवे स्टेशन पर दंडाधिकारी ड्यूटी से गायब रहे कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा

लखीसराय. ट्रेनों के ठहराव की मांग को लेकर बड़हिया रेलवे स्टेशन पर संभावित प्रदर्शन को देखते हुए लखीसराय जिलाधिकारी ने सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने का निर्देश दिया था. इसी क्रम में बड़हिया रेलवे स्टेशन पर 23 जुलाई से अलग अलग पालियों में दंडाधिकारी की भी नियुक्ति की है. हालांकि इसके बाद भी शनिवार को लखीसराय जिलाधिकारी के आदेश से अधिकारी बेपरवाह दिखे. 23 जुलाई को दंडाधिकारी के रूप मे उपस्थित पदाधिकारियों में कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा, बड़हिया दोपहर बाद तक बड़हिया रेलवे स्टेशन पर उपस्थित नहीं थे. जब उनसे बात की गई तो उन्होंने बताया कि हम मीटिंग में है. 

दरअसल, कई ट्रेनों का ठहराव हटाए जाने से परेशान बड़हिया के लोग एक बार फिर आंदोलन कर सकते हैं. वर्ष 2020 में लॉकडाउन के दौरान जब देश में रेल परिचालन बंद किया गया और कुछ महीनों बाद स्पेशल ट्रेनों के नाम पर ट्रेनें चलनी शुरू हुई तब अधिकांश ट्रेनों का ठहराव बड़हिया स्टेशन से हटा दिया गया. इससे लाखों की आबादी वाले बड़हिया क्षेत्र के लोग परेशान हो गए. उन्होंने पिछले एक साल के दौरान कई बार रेल चक्का जामकर आंदोलन किया जिसके बाद कुछ ट्रेनों का ठहराव रेलवे की ओर से दिया गया.

हालांकि ऐसी संभावना है कि एक बार फिर से बड़हिया में आंदोलन हो सकता है. इसी कारण एहतियात के तौर पर लखीसराय जिला प्रशासन ने संभावित आंदोलन को देखते हुए अनुमंडल दंडाधिकारी लखीसराय की ओर 23 जुलाई से बड़हिया स्टेशन पर दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी के साथ बलों की प्रतिनियुक्ति का निर्देश दिया. इसके तहत तीन पालियों में अंचल अधिकारी बड़हिया, कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा बड़हिया, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी चानन, प्रखंड विकास पदाधिकारी बड़हिया, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी सूर्यगढ़ा, कृषि समन्वयक बड़हिया, प्रखंड पंचायत राज पदाधिकारी प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी बड़हिया, प्रखंड कृषि समन्वयक बड़हिया को दंडाधिकारी के रूप में प्रतिनियुक्त किया गया है.

आदेश के बाद भी शनिवार को कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा बड़हिया उपस्थित नहीं रहे. वहीं, आंदोलन से जुड़े श्यामनंदन सिंह ने बताया कि ट्रेनों के ठहराव की मांग को लेकर इसी साल मई में भी बड़हिया में आंदोलन हुआ था. 23 मई 2022 को लखीसराय जिला पदाधिकारी एवं अपर मंडल रेल प्रबंधक दानापुर के साथ रेल संघर्ष समिति बड़हिया के प्रतिनिधियों की वार्ता हुआ. इसमें रेलवे ने वादा किया था कि बड़हिया में 6 ट्रेनों का ठहराव दिया जाएगा. हालांकि अब तक वादा पूरा नहीं किया गया है. इससे बड़हिया के लोग खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं. अब फिर से आंदोलन के सिवाय और कोई उपाय नहीं है.


Find Us on Facebook

Trending News