राष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस को सता रहा क्रॉस वोटिंग का डर, चुनाव के पहले चेन्नई में भेजे गए कई कांग्रेसी विधायक

राष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस को सता रहा क्रॉस वोटिंग का डर, चुनाव के पहले चेन्नई में भेजे गए कई कांग्रेसी विधायक

DESK. कांग्रेस को अपनी पार्टी की गोवा इकाई में बगावत का डर सता रहा है। यही कारण है कि पार्टी ने सोमवार को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव (Presidential Elections) से पहले अपने 11 में से 5 विधायकों को चेन्नई भेज दिया है।

गोवा विधानसभा का सत्र समाप्त होने के तुरंत बाद कांग्रेस ने शुक्रवार शाम को अपने पांच विधायकों (संकल्प अमोनकर, यूरी अलेमाओ, अल्टोन डी'कोस्टा, रुडोल्फ फर्नांडीस और कार्लोस अल्वारेस फरेरा) को चेन्नई भेज दिया। सभी पांच विधायक विमान से चेन्नई पहुंचे। एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने कहा कि पांचों विधायक सोमवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान करने गोवा लौटेंगे। 

सूत्रों की मानें तो कांग्रेस के छह अन्य विधायकों-पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत, माइकल लोबो, डेलियाला लोबो, केदार नाइक, एलेक्सो सिक्वेरा और राजेश फलदेसाई को चेन्नई नहीं भेजा गया है। पिछले कई दिनों से इन विधायकों को लेकर अटकलों का दौर जारी है। दावा किया जा रहा है कि ये विधायक भाजपा के संपर्क में हैं। इस बारे में जब लोबो से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि मुझे नहीं बुलाया गया था। मैं नहीं जानता कि उन्हें चेन्नई क्यों ले जाया गया है। उन्होंने दावा किया कि वह शुक्रवार शाम को एक व्यापार यात्रा के सिलसिले में मुंबई में थे

भारत के अगले राष्ट्रपति के चयन के लिए मतदान 18 जुलाई को होगा। द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की प्रत्याशी, जबकि यशवंत सिन्हा विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार के रूप में राष्ट्रपति चुनाव में किस्मत आजमा रहे हैं।

Find Us on Facebook

Trending News