बिक्रमगंज नगर परिषद में वित्तीय अनियमितता का मामला उजागर, कार्यपालक पदाधिकारी सहित आरोपियों पर एफआईआर का आदेश

बिक्रमगंज नगर परिषद में वित्तीय अनियमितता का मामला उजागर, कार्यपालक पदाधिकारी सहित आरोपियों पर एफआईआर का आदेश

SASARAM : जिले के बिक्रमगंज नगर परिषद में ई-रिक्शा तथा सड़क पर लगाए गए मेटालिक साइन बोर्ड के लिए एक करोड़ 90 लाख से अधिक के राशि भुगतान में वित्तीय अनियमितता का मामला प्रकाश में आया है। जिसके बाद जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने बिक्रमगंज की तात्कालिक कार्यपालक पदाधिकारी प्रेम स्वरूप सहित अन्य कर्मियों पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। 

बता दें कि बिक्रमगंज के एक वार्ड पार्षद ललन प्रसाद तथा एक पत्रकार के द्वारा की गई शिकायत के आलोक में डीएम धर्मेंद्र कुमार द्वारा बिक्रमगंज के अनुमंडल अधिकारी के नेतृत्व में तीन सदस्यीय जांच टीम का गठन किया गया। जिस टीम ने जांच के बाद पाया कि सड़क पर लगाए गए मेंटालिक साइन बोर्ड के 1 करोड़ 11 लाख तथा ई-रिक्शा के खरीद के लिए 80 लाख रुपए के अधिक की राशि अनियमितता पूर्ण तरीके से भुगतान किया गया। वस्तुओं के क्रय में उपयोगिता एवं गुणवत्ता संबंधी मापदंडों में वित्तीय अनियमितता की गई। 

डीएम धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि जांच टीम के रिपोर्ट के बाद संबंधित कार्यपालक पदाधिकारी प्रेमा स्वरूप को शोकाज भेजा गया। जिसके जवाब से जांच टीम संतुष्ट नहीं हुई। इसके उपरांत वर्तमान कार्यपालक पदाधिकारी को मामले में एफआईआर के निर्देश दिए गए हैं। डीएम ने यह भी बताया कि जांच के दौरान वित्तीय अनियमितता उजागर हुई है। ऐसे में जांच के दौरान दोषी पाए गए बिक्रमगंज के नगर परिषद की तात्कालिक कार्यपालक पदाधिकारी प्रेम स्वरूप तथा अन्य कर्मियों पर वर्तमान कार्यपालक पदाधिकारी द्वारा FIR कर सूचित करने का निर्देश दिया गया है।

सासाराम से राजू की रिपोर्ट  

Find Us on Facebook

Trending News