पटना: बाढ़ में सड़क बनी नदी, ग्रामीणों को आवागमन के लिए बस नाव ही सहारा

पटना: बाढ़ में सड़क बनी नदी, ग्रामीणों को आवागमन के लिए बस नाव ही सहारा

पटनासिटी. गंगा ने अपना बिकराल रूप दिखाना शुरू कर दिया है. एक बार फिर से प्रदेश में बाढ़ आ गयी है. बिहार के लगभग 28 जिले बाढ़ से प्रभावित है और राजधानी पटना भी उससे अछूता नहीं है. राजधानी पटना के गंगा किनारे तो गंगा का पानी सड़क तक चढ़ चुका है. अगर अभी और बारिश हुई तो स्थित बिकराल हो सकती है. वहीं राजधानी पटना के ग्रामीण क्षेत्रों में बाढ़ ने दस्तक दे दी है.

न्यूज़4नेशन ने इन क्षेत्रों में बाढ़ से सम्बंधित हर खबर को प्रमुखता से दिखाते आ रहा है और आज भी  हमारे संवाददात इन क्षेत्रों के लोगों की  समस्याओं को जानने पहुंचे. पटना के दीदारगंज थाना क्षेत्र के कई ऐसे पंचायत हैं, जहां बाढ़ के पानी से पूरा क्षेत्र डूब चुका है.

खासकर सोनामा पंचायत के रायबाग, खासपुर,पुनाडीह पंचायत,जेठूली पंचायत ऐसे कई पंचायतों में बाढ़ आ चुका है. लोगों का घर द्वार,दुकान सब डूब चुका है. लोग अपने अपने घरों में चौकी पर बैठ रात गुजारते हैं. दो दिनों से क्षेत्र के बिजली नहीं है. मबेशियो कि लिए चारा तक नहीं है. आने जाने बाले मुख्य सड़क पर कमर तक पानी है.

लोगों को नाव का सहारा लेना पड़ रहा है. यहां के लोग कहना है क्षेत्रीय बिधायक भी हाल चाल जानने नहीं आते हैं. बता दें कि दो दिन पहले ही पटनासाहिब सांसद रविशंकर प्रसाद क्षेत्र का जायजा लेने पहुंचे थे, लेकिन बाबजूद बाढ़ पीड़ितों को कोई सुविधा नहीं मिली है, जिसको लेकर सरकार के प्रति लोगों में काफी गुस्सा है. इंतज़ार में है कि कब राज्य सरकार राहत कार्य चलाये, जिससे कि लोगों की समस्याओं में कमी आए.

Find Us on Facebook

Trending News