लगातार 15 साल से मटिहानी में पूर्व जदयू विधायक का अपने ही सरकार पर फूटा गुस्सा , नीतीश को भी दे डाली चुनौती

लगातार 15 साल से  मटिहानी में पूर्व जदयू विधायक का अपने ही सरकार पर फूटा गुस्सा , नीतीश को भी दे डाली चुनौती

BEGUSARAI : बिहार में शराबबंदी से हो रही मौतों को लेकर न सिर्फ विपक्ष और महागठबंधन की सहयोगी पार्टियों नीतीश सरकार से जवाब मांग रही है. वही अब जदयू के अंदरखाने से भी नीतीश सरकार के काम पर सवाल उठने  लगे हैं।  मटिहानी के पूर्व विद्यायक बोगो सिंह ने शराबबंदी को लेकर एक बार फिर नीतीश सरकार और बिहार के राजनीतिक दलों पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा है कि बिहार में बॉर्डर पार करके बेगूसराय शराब पहुंच रही है और फिर होम डिलीवरी होती है इससे यह कि लोकल प्रशासन सहित बॉर्डर की प्रशासन फेल है। आप शासन और प्रशासन हो उन्हीं से यह पूछना चाहिए की शासन प्रशासन और सुशासन कहां है।

हर स्तर पर फेल रही सरकार 

पूर्व जदयू विधायक ने कहा झारखंड बॉर्डर, हरियाणा बॉर्डर, दिल्ली बॉर्डर, नेपाल बॉर्डर, बंगाल बॉर्डर से होते हुए बिहार में शराब प्रवेश करती है। यहां बॉर्डल पर सरकार फेल, फिर बेगूसराय में पहुंचने के लिए तीन से चार जिलों को पार शराब पहुंची रही। यहां सरकार का प्रशासन फेल, उसके बाद बेगूसराय में एक फोन कॉल पर घर पर शराब की होम डिलीवरी, यहां लोकल प्रशासन फेल। पूर्व विधायक ने कहा कि आप ही शासन और प्रशासन हो, ऐसे में इतने स्तर पर फेलियर होने का जवाब भी आप को ही देना होगा। आपका शासन, प्रशासन और सुशासन कहां है। बिहार के मुख्यमंत्री को इन सवालों के जवाब देने चाहिए।

बिहार के नेताओं के चरित्र पर उठाए सवाल 

 वहीं उन्होंने राजनीतिक दल राजद और बीजेपी को भी घेरते हुए कहा की 4 महीना पहले आरजेडी के लोग सवाल उठाते थे इस्तीफा दो, मुआवजा दो, और विभिन्न प्रकार के नाम से संबोधन करते थे।अब बीजेपी के लोग सवाल उठा रहे हैं। इस बिहार के तमाम राजनेताओं के चरित्र पर विश्लेषण करना होगा की मेरा कैसा चरित्र होगा जी आज जिसके साथ खाना खाए कल रिश्ता टूटा तो उसी को गाली देना शुरू कर दिये। जदयू, भाजपा और राजद के नेताओं को बताना चाहिए कि चरित्र की परिभाषा क्या है। क्या इनके लिए अलग स्कूल और कॉलेज खोले जाएंगे, जो उनके चरित्र को परिभाषित करेंगे।


Find Us on Facebook

Trending News