पहली बार रंगीन रौशनी से नहाया नालंदा विश्वविद्यालय का भग्नावशेष, देखने के लिए उमड़ी लोगों की भीड़

पहली बार रंगीन रौशनी से नहाया नालंदा विश्वविद्यालय का भग्नावशेष, देखने के लिए उमड़ी लोगों की भीड़

NALANDA : विश्व धरोहर प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के भग्नावशेष नालंदा खंडहर को पुरातत्व विभाग ने नवरात्री के मौके पर रंग बिरंगी रौशनी से सजा दिया। रात में देखने से ऐसा लगता है कि भारत की आन बान और शान राष्ट्रीय ध्वज हो। विभाग द्वारा पहली बार इस तरह की व्यवस्था की गई है। नालंदा खंडहर के इस मनोरम दृश्य की एक झलक देखने के लिए आस पास के ग्रामीण ही नहीं, बल्कि कई क्षेत्रों से लोग पहुंच रहे हैं। 

नालंदा विश्वविद्यालय के खंडहर को पहले शाम के 5 बजे के बाद पर्यटकों के लिए बंद कर दिया जाता था। लेकिन लाइटिंग के बाद अब इसे 9 बजे रात्रि तक के लिए खोल दिया गया है। जिससे पर्यटकों में भी खुशी देखी जा रही हैं। हर लोग इसके आगे सेल्फी लेने के लिए आतुर दिख रहे थे। 

वैसे यह विश्वविद्यालय किसी परिचय का मोहताज नहीं है। उस समय इस विश्वविद्यालय में 10 हज़ार से अधिक विद्यार्थी पढ़ते थे। जिनके लिए डेढ़ हजार से ज्यादा शिक्षक यहां रहते थे। यह अपनी तरह का अनोखा आवासीय विश्वविद्यालय माना जाता है। इस अनोखी विरासत को देखने हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक नालंदा आते हैं। यूनेस्को ने इस वर्ल्ड हेरिटेज घोषित किया है।

नालन्दा से राज की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News