पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह का निधन, लालू और नीतीश के बेहद खास राजनीतिक दोस्त, बेटे सुमित हैं बिहार सरकार में मंत्री

पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह का निधन, लालू और नीतीश के बेहद खास राजनीतिक दोस्त, बेटे सुमित हैं बिहार सरकार में मंत्री

पटना. पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह का निधन हो गया. वे पिछले लम्बे अरसे से बीमार चल रहे थे. नरेन्द्र सिंह के पुत्र सुमित सिंह फ़िलहाल बिहार की नीतीश सरकार में मंत्री हैं. नरेंद्र सिंह बिहार के जमुई जिले के कद्दावर नेता रहे. उन्होंने कई बार यहां के अलग अलग विधानसभा क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व किया. साथ ही नीतीश सरकार में अलग अलग विभागों के मंत्री भी रहे. राजपूत समाज से आने वाले नरेंद्र सिंह का राजपूत बिरादरी की राजनीति में विशेष प्रभाव था. उनके निधन की खबर से पैतृक जिले जमुई में भी शोक की लहर दौड़ गई.

वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव में नरेंद्र सिंह के दो बेटों अजय प्रताप ने जमुई विधानसभा से RLSP उम्मीदवार के तौर पर तो चकाई से सुमित कुमार सिंह निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़े थे. हालांकि अजय प्रताप चुनाव हार गए जबकि सुमित ने निर्दलीय ही चुनाव जीता था. बाद में सुमित सिंह ने नीतीश सरकार को समर्थन देने की घोषणा की और उन्हें मंत्री बनाया गया. 


नरेंद्र सिंह का लालू यादव और नीतीश कुमार से निकट का सम्बंध रहा. आपातकाल के दौर से ही वे दोनों के साथ आंदोलन में जुड़े रहे. बाद में वे सक्रिय राजनीति में आए और लगातार अपना दबदबा बनाए रखा. लालू यादव और नीतीश कुमार में जब रिश्ते मधुर नहीं रहे तो वर्ष नरेंद्र सिंह ने लालू यादव को सत्ता से उखाड़ फेंकने के लिए नीतीश कुमार की मुहीम में साथ दिया. कहा जाता है कि नरेंद्र सिंह उन कुछ खास लोगों में रहे जिन्होंने नीतीश कुमार को बिहार का मुख्यमंत्री बनाने के लिए लम्बा संघर्ष किया. वर्ष 2005 में नीतीश कुमार के बिहार के मुख्यमंत्री बनने के बाद नरेंद्र सिंह भी उनके साथ रहे. बाद में वे नीतीश सरकार में कृषि मंत्री भी रहे. 

हालांकि बाद में उनके और नीतीश कुमार के रिश्तों के दूरियां बढ़ गई. खासकर विधानसभा चुनाव 2020 में जब जदयू ने नरेंद्र के दोनों बेटों को टिकट नहीं दिया तब उन्होंने विद्रोह का बिगुल फूंक दिया. उनके बेटे सुमित ने निर्दलीय के तौर पर जीत हासिल की. 

आपको बता दें कि इसी साल बीते 29 मार्च को नई दिल्ली स्थित AIIMS में पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह का सफल ऑपरेशन हुआ था. उन्हें लीवर के ऊपर गांठ की समस्या थी. खुद उनके बेटे और बिहार सरकार के विज्ञान व प्रौद्योगिकी मंत्री सुमित कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए कहा था कि पूर्व मंत्री निरंतर अपने राजनीतिक-सामाजिक दायित्व के समक्ष अपने स्वास्थ्य की अनदेखी करते रहे, तब सेहत ने साथ छोड़ दिया. उन्हें लीवर के ऊपर गांठ की समस्या थी जो भविष्य में गंभीर रूप ले सकती थी. पिछले पखवाड़े भी नरेंद्र सिंह की तबीयत बिगड़ गई थी जिसके बाद उन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया. कुछ दिन पहले ही बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी अस्पताल जाकर मुलाकात की थी और कुशलक्षेम जाना था. सोमवार को उन्होंने अंतिम साँस ली. 



Find Us on Facebook

Trending News