कोशी प्रमंडल में "पत्रकारिता के पितामह" कहे जाने वाले गंगा चौधरी का निधन, पत्रकारों में शोक की लहर

कोशी प्रमंडल में "पत्रकारिता के पितामह" कहे जाने वाले गंगा चौधरी का निधन, पत्रकारों में शोक की लहर

PURNEA : प्रमंडलीय पत्रकार संघ के अध्यक्ष गंगा चौधरी का 72 वर्ष के उम्र में निधन हो गया। दिवंगत गंगा बाबू के गुजरने से पत्रकारिता जगत में शोक की लहर दौड़ गयी है। बीती रात उनके निधन की खबर आते ही पुर्णिया व आसपास के ज़िले के पत्रकार और उनके चाहने वाले उनके पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन को पहुँचे । 4 दशक से भी लंबे पत्रकारिता अनुभव को अपने मे समेटे गंगा बाबू का ब्रेन हेमरेज से निधन हुआ। गंगा बाबू के बारे में कहा जाता है कि वे आजीवन सीमांचल और कोसी के पत्रकारों में ‘पत्रकारिता का पितामह’ बने रहे।

बताया जा रहा है की बीती रात वो बाथरूम में गिर की गए थे। जिसके फौरन बाद उन्हें इलाज के लिए निजी अस्पताल ले जाया गया। हालांकि अस्पताल ले जाने के दौरान ही उनकी मौत हो गई। निधन के बाद उनके शव को अंतिम दर्शन के लिए उनके निजी आवास ले जाया गया है। जहां पत्रकारों, समाजसेवियों व नेताओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है।

गंगा बाबू के बारे में बताया जा रहा है कि पहले वो कांग्रेस के सक्रिय सदस्य थे, जिनकी ख्याति इस बात से थी कि पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र के कार्यक्रम में अगर गंगा बाबू जब तक नहीं पहुंचते तब तक कार्यक्रम शुरू नहीं होता। कांग्रेस ने उन्हें बतौर मीडिया सलाहकार बुलाया भी लेकिन गंगा बाबू ने पत्रकारिता को चुना। पाटलिपुत्रा टाइम्स से अपने कैरियर की शुरुआत की। आज गंगा बाबू की अमिट पहचान पुर्णिया प्रमंडल ही नहीं बल्कि बिहार भर में है। गंगा बाबू इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जॉर्नलिस्ट के अध्यक्ष रहे हैं। इनका निधन पत्रकारिता जगत के लिए अपूर्णीय क्षति मानी जा रही है।

पूर्णिया से तहजीब की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News