जी डी गोयनका के छात्र की जहर खाने से नहीं पिटाई से हुई मौत, राजद नेता ने बिसरा रिपोर्ट का दिया हवाला

जी डी गोयनका के छात्र की जहर खाने से नहीं पिटाई से हुई मौत, राजद नेता ने बिसरा रिपोर्ट का दिया हवाला

GAYA : गया के चर्चित जी डी गोयनका स्कूल के आठवीं क्लास के छात्र कृष्ण प्रकाश की संदिग्ध मौत मामले में पूर्व स्पीकर सह राजद के वरिष्ठ नेता उदय नारायण चौधरी और मृतक के परिजनों ने पिटाई से मौत होने पर दावा किया है। उन्होंने दावा किया है कि बेसरा रिपोर्ट में पिटाई से मौत होने का मामला सामने आया है। हालांकि बेसरा रिपोर्ट के बारे में कहा कि हमने अपने सूत्र से जानकारी लिया है कि बेसरा रिपोर्ट में पिटाई से मौत हुई है। उन्होंने कहा कि बेसरा रिपोर्ट का खुलासा पुलिस को करना चाहिए। साथ ही पुलिस को त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी शिक्षक शुभेंदु को गिरफ्तार घर स्पीडी ट्रायल चलाते हुए कार्रवाई किया जाना चाहिए। साथ ही स्कूल के प्रिंसिपल पर भी कार्रवाई होनी चाहिए। क्योंकि प्रिंसिपल के द्वारा शिक्षक पर कार्रवाई नहीं किया है और आरोपी शिक्षक को बचाने की कोशिश किया जा रहा है। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सल्फास खाने से छात्र की मौत होने की रिपोर्ट आया था। पुलिस पर स्कूल प्रबंधन से मिलीभगत का आरोप परिजनों और उदय नारायण चौधरी ने लगाया है।


दरअसल यह मामला 16 फरवरी 2022 की है। जहाँ शहर के बाटा मोड़ के पास के रहने वाले प्रकाश चंद्र के पुत्र है, इनके पुत्र जी डी गोयनका स्कूल में आठवीं क्लास में पढ़ता था। स्कूल के छुट्टी के समय जब आठवीं क्लास का छात्र कृष्ण प्रकाश स्कूल परिसर में बस में बैठ रहा था। उसी दौरान उसकी अचानक तबीयत बिगड़ गई और अचेत होकर वहीं पर गिर गया था। जिसे स्कूल प्रबंधन के द्वारा निजी डॉक्टर के पास ले गया गया। जहां से डॉक्टर ने उसे जयप्रकाश नारायण अस्पताल में भेज दिया। जहां डॉक्टरों के मुताबिक बच्चे की मौत पहले ही हो चुकी थी। वही परिजनों ने आरोप लगाया है कि स्कूल के एक शिक्षक शुभेंदु कुमार के द्वारा बच्चे के साथ बेरहमी से पिटाई की गई थी। जिसको लेकर परिजनों ने चाकन्द थाना में शुभेंदु कुमार के खिलाफ मामला भी दर्ज कराया गया था। पुलिस ने मामले को देखते हुए बच्चे को पोस्टमार्टम कराया और कुछ दिन के बाद पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्चे की मौत चौंकाने वाला आया था। बच्चे की मौत की रिपोर्ट में सल्फास खाने से मौत होने की बात आई। सवाल उठता है कि बच्चे के पास सल्फास कहां से आया था। परिजनों ने पुलिस पर स्कूल प्रबंधन के साथ मिलीभगत का आरोप लगाते हुए पोस्टमार्टम रिपोर्ट को बदलने का आरोप लगाया। जिसके बाद एसएसपी हरप्रीत कौर के द्वारा बेसरा जांच के लिए कोलकाता भेजा गया था। लेकिन पुलिस ने अभी तक बेसरा रिपोर्ट को सार्वजनिक नहीं किया है। परिजनों ने दावा किया है कि उन्हें बेसरा रिपोर्ट हाथ लगी है। जिसमें पिटाई से मौत का रिपोर्ट आया है। लेकिन पुलिस अब तक इस मामले यह खुलासा भी नहीं किया जो पुलिस प्रशासन पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करता है।

पूर्व स्पीकर राजद के वरिष्ठ नेता उदय नारायण चौधरी ने पुलिस प्रशासन पर सवाल खड़ा किया है। उदय नारायण चौधरी ने बताया कि पीड़ित परिवार के लोग पहले से ही कह रहे थे कि शिक्षक की पिटाई से बच्चे की मौत हुई है। किंतु पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देकर पुलिस प्रशासन द्वारा कहा जा रहा था कि बच्चे की मौत सल्फास खाने से हुआ है। उदय नारायण चौधरी ने दावा किया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से संतुष्ट नहीं होने पर एसएसपी के द्वारा बेसरा रिपोर्ट जांच के लिए कोलकाता फॉरेंसिक लैब भेजी गई थी। वहां जांच में सामने आया है कि बच्चे की मृत्यु पिटाई से हुई है। सल्फास या जहर खाने से मौत नहीं हुई है। इसका मतलब उस पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हेरफेर की गई है। 302 का केस है। ऐसे में आरोपित शिक्षक और प्रिंसिपल की भी गिरफ्तारी होनी चाहिए। प्रिंसिपल की गिरफ्तारी इसलिए की उन्होंने शिक्षक को सपोर्ट किया है। चौधरी ने स्कूल को बंद करने की मांग की है। साथ ही तत्काल कार्रवाई करने की बात की है। अगर कार्रवाई नहीं होती है तो आने वाले दिनों में बड़ा आंदोलन गया शहर में होगा। उदय नारायण चौधरी से बेसरा रिपोर्ट के बारे में पूछा गया की आपके पास यह जानकारी कहां से आई है तो उन्होंने कहा कि यह हम क्यों बताएंगे। यह जिसकी जिम्मेवारी बनती है वह सार्वजनिक करें। इनका इशारा पुलिस प्रशासन के वरीय अधिकारियों की ओर था।

कृष्ण प्रकाश के पिता प्रकाश चंद्र ने कहा कि इस मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट में काफी हेरफेर की गई है। लेकिन अब विसरा रिपोर्ट से जो जानकारी मिल रही है। उसमें मौत का कारण पिटाई बताया गया है। उन्होंने मांग किया है कि जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी की जाए। जबकि सामाजिक कार्यकर्ता रवि वर्णवाल उर्फ गुड्डू वर्णवाल ने बताया कि मौत के बाद शुरु से ही पैसे का खेल हो रहा है। छात्र कृष्ण प्रकाश की मौत बिसरा रिपोर्ट में पिटाई से आई है तो न्याय मिलना चाहिए और आरोपी की गिरफ्तारी तुरंत होनी चाहिए।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News