बेगूसराय गोलीकांड में पुलिस के खुलासे पर गिरिराज सिंह का बड़ा आरोप, असली गुनहगार को 200% बचा रही नीतीश सरकार

बेगूसराय गोलीकांड में पुलिस के खुलासे पर गिरिराज सिंह का बड़ा आरोप, असली गुनहगार को 200% बचा रही नीतीश सरकार

पटना. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने नीतीश सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि बेगूसराय गोलीकांड पर पुलिस ने खुलासा और आरोपियों की गिरफ्तारी के नाम पर लीपापोती की है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि बिहार सरकार के निर्देश पर बेगूसराय पुलिस की प्रेस कांफ्रेंस 2 मिनट में खत्म हो गई, कोई ब्योरा नहीं दिया गया, असली गुनहगार को 200% बचाने की कोशिश की जा रही है, शायद उसका सत्ता से गहरा नाता हो ? बिहार सरकार को डर है कि असली नाम और उसके कनेक्शन का खुलासा हो गया तो सरकार गिर जाएगी।

गिरिराज ने इसके पहले भी बेगूसराय कांड में आरोपियों को बचाने का आरोप लगाया था. उन्होंने मामले की जांच सीबीआई या एनआईए से कराने की मांग की थी. हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनकी मांग को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा कि पुलिस अनुसंधान कर रही है. पुलिस की जांच में सारे मामले का खुलासा हो जाएगा. उन्होंने भाजपा नेताओं पर बेसिरपैर की मांग करने का आरोप लगाया. लेकिन अब बेगूसराय पुलिस की प्रेस कांफ्रेंस में मामले को रफा-दफा करने का आरोप लगाते हुए गिरिराज ने फिर से नीतीश सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पुलिस की ओर से कोई ब्योरा नहीं दिया गया, असली गुनहगार को 200% बचाने की कोशिश की जा रही है. 

दरअसल, बेगूसराय गोलीकांड पर पुलिस ने शुक्रवार को बड़ा खुलासा किया. बेगूसराय एसपी योगेन्द्र कुमार ने कहा कि जांच में प्रथम दृष्टया यह बात सामने आई है कि आरोपियों ने दहशत फ़ैलाने के मकसद से गोलीबारी की. उन्होंने कहा कि इस मामले में चार लोगों को पकड़ा गया है. इनकी पहचान केशव उर्फ़ नागा, सुमित, चुनचुन और युवराज के रूप में हुई है. इस मामले की जांच के लिए चार टीमों का गठन किया गया. केशव उर्फ़ नागा पर पहले से 2 मामले दर्ज हैं. 

22 जगहों पर सीसीटीवी फुटेज की जांच से पता चला कि दो बाइक पर चार लोग सवार होकर गोलीबारी किए. उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने षड्यंत्र रचने में अहम भूमिका निभाई. इसके बाद पुलिस को कामयाबी मिली. उन्होंने का कि फ़िलहाल यह मामला अनुसंधान के क्रम में है. इसलिए इस मामले में और ज्यादा जानकरी जुटाई जा रही है. उन्होने कह कि गिरफ्त में आए लोगों के खिलाफ पहले से अपराधिक ममला दर्ज है. 

बेगूसराय में मंगलवार शाम करीब 5 बजे से 6 बजे के बीच करीब 30 किलोमीटर के दायरे में बाइक सवार बदमाशों ने अलग अलग जगह पर गोलीबारी की थी. इसमें 11 लोगों को गोली लगी जिसमें एक की मौत हो गई. उन्होंने कहा कि परिजनों का आरोप कि केशव को फर्जी तरीके से फंसाया गया है, यह पूरी तरह से बेबुनियाद है. पुलिस ने पूरे अनुसंधान के बाद इन आरोपियों को पकड़ा है. 

आरोपियों के पास से पुलिस को दो पिस्टल और कपड़े जब्त किए गए हैं. साथ ही युवराज की निशानदेही पर हथियार बरामदी के कई अन्य खुलासे हुए हैं. पुलिस इस मामले में और ज्यादा पूछताछ कर रही है. उसके बाद पूरा मामला और ज्यादा खुलासा होगा. पुलिस ने कहा कि इस मामले में और लोग शामिल हो सकते है.


Find Us on Facebook

Trending News