शिक्षकों को भी फ्रंटलाईन वारियर्स मानते हुए कोविड योद्धा घोषित करे सरकार,ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ एजुकेशनल एसोसिएशन ने उठाई मांग

शिक्षकों को भी फ्रंटलाईन वारियर्स मानते हुए कोविड योद्धा घोषित करे सरकार,ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ एजुकेशनल एसोसिएशन ने उठाई मांग

PATNA: बिहार के शिक्षकों को भी कोरोना वारियर्स घोषित किये जाने की मांग उठने लगी है। आल इंडिया फेडरेशन ऑफ एजुकेशनल एसोसिएशन ने सरकार से यह मांग की है। संघ के राष्ट्रीय सचिव शैलेन्द्र कुमार शर्मा "शैलू" एवं राज्यपार्षद जयनंदन यादव ने सरकार से राज्य के शिक्षकों, पुस्तकालयाध्यक्षों एवं शिक्षकेत्तर कर्मियों को फ्रंटलाईन वारियर्स की तरह कोविड योद्धा घोषित करते हुए उन्हें प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन लगाने, राज्य के अन्य कोरोना योद्धा की तरह 50 लाख की बीमा कराने, सरकार के द्वारा घोषित प्रोत्साहन राशि देने के साथ साथ सुरक्षा हेतु पीपीई कीट, सेनेटाइजर, ग्लब्स, मास्क आदि उपलब्ध कराने की मांग की है।

आपदा में शिक्षक समाज ने हमेशा निभाई है अपनी भूमिका

उन्होंने कहा कि हम सबो का दायित्व है कि वैश्विक महामारी कोरोना की लड़ाई में अपनी अपनी भूमिका एवं दायित्वों का निर्वहन करें। शिक्षक समाज आपदा की परंपरा रही है कि वह हर आपदा में अपने तन, मन और धन से सहयोग किया है। यहां तक कि सरकार के आपदा राहत कोष में भी अपने वेतन का हिस्सा दिया है।

कोरोना में भी निष्ठा और ईमानदारी से ड्यूटी पर तैनात

उन्होंने कहा कि आज सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण काल में राज्य के शिक्षकों, पुस्तकालयाध्यक्षों एवं शिक्षकेत्तर कर्मियों को कोविड केयर सेंटर से लेकर वैक्सीनेशन सेंटर पर तैनात किया गया है। जहां पुरी निष्ठा और ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का पालन भी कर रहे हैं।

सरकार कर रही है भेदभाव

नेताओं ने कहा कि अपने कर्तव्यों के निर्वहन के बावजूद भी राज्य सरकार द्वारा उनके साथ भेदभावपूर्ण रवैया अपना रही है। उन्हें ना तो कोविड योद्धा घोषित किया और ना ही 50 लाख की बीमा योजना से आच्छादित किया। यहां तक कि उन्हें राज्य के अन्य कर्मियों की तरह प्रोत्साहन राशि भी नहीं दी जा रही है।

अविलंब प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीनेशन कराएं

एसोसिएशन ने कहा कि शिक्षक समाज के वैक्सीनेशन नहीं कराने एवं उन्हें हमेशा फ्रंटलाईन वारियर्स की तरह हर जगह ड्यूटी पर लगाने से हमेशा उनमें संक्रमण का डर रहता है। हमारे हजारों शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष एवं शिक्षकेत्तर संक्रमित हो गये हैं और उनमें सैकड़ों असमय काल के गाल में समा गये। सरकार द्वारा शिक्षकों, पुस्तकालयाध्यक्षों एवं शिक्षकेत्तर कर्मियों को भी कोविड योद्धा की तरह प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन दिलवाने की व्यवस्था करें। 

सुरक्षा संसाधन भी दी जाय

उन्होंने कहा कोरोना संक्रमण काल में लागातार शिक्षकों, पुस्तकालयाध्यक्षों एवं शिक्षकेत्तर कर्मियों को कोविड केयर सेंटर, वैक्सीनेशन सेंटर, कम्यूनिटी किचेन,कोरोना हेल्प लाइन डेस्क आदि सहित विभिन्न स्थानों पर बिना किसी सुरक्षा संसाधनों यथा पीपीई कीट, सेनेटाइजर, ग्लब्स मास्क आदि के तैनात किया जा रहा है। जो काफी घातक है। शिक्षक समाज को भी अन्य फ्रंटलाईन वारियर्स की तरह सभी सुरक्षा संसाधन भी उपलब्ध कराई जाय। जिससे सभी भयमुक्त होकर अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर सकें।

Find Us on Facebook

Trending News