औरंगाबाद के कोचिंग संस्थान में जीएसटी टीम ने की छापेमारी, संचालकों में मचा हड़कंप

औरंगाबाद के कोचिंग संस्थान में जीएसटी टीम ने की छापेमारी, संचालकों में मचा हड़कंप

AURANGABAD : औरंगाबाद शहर में इन दिनों बड़े-बड़े कोचिंग संस्थानों द्वारा जीएसटी की चोरी की जा रही है। यह खुलासा वित-वाणिज्य कर विभाग द्वारा शहर में एक सप्ताह के अंदर दो बड़े कोचिंग संस्थानों में की गई छापेमारी से हुआ है। दोनों ही कोचिंग क्लासेस बिना जीएसटी निबंधन के चलाये जा रहे थे। छापेमारी में लाखों की जीएसटी चोरी पकड़ी गई है। छापेमारी से शहर के कोचिंग संचालकों में हड़कम्प मच गया है। 


विभागीय सूत्रों के मुताबिक शहर में टाउन इंटर स्कूल के पीछे सिंहा कॉलेज रोड के बगल में बिना जीएसटी निबंधन के चल रहे डीके चंदन केमिस्ट्री क्लासेस में राज्य कर संयुक्त आयुक्त अंचल प्रभारी सुनील कुमार के नेतृत्व में जीएसटी टीम ने बिहार माल एवं सेवा कर अधिनियम 2017 के तहत निबंधन नहीं कराने के कारण छापा मारा। छापेमारी के पहले बहुत ही सुनियोजित तरीके से अंचल प्रभारी सुनील कुमार ने प्लान बनाया। 

ऐसा करने के पीछे वजह यह थी कि कुछ दिन पहले शहर के शाहपुर मुहल्ले में बिना जीएसटी निबंधन के चल रहे विराट कोचिंग संस्थान में छापा पड़ने के बाद से शहर के सभी कोचिंग संस्थान काफी सावधान हो गये थे। कोचिंग संस्थान मेन गेट बंद करके और संस्थान के बाहर कर्मचारियों को रख कर बाहर की गतिविधियों पर नजर रख रहे थे। 

गौरतलब है कि बिहार माल एवं सेवा कर अधिनियम 2017 के तहत जिस कोचिंग संस्थान का सालाना टर्न ओवर 20 लाख से अधिक हो। उसके लिए जीएसटी में निबंधन लेना अनिवार्य है। ऐसे कोचिंग संस्थान को सेवा कर के तहत 18 प्रतिशत जीएसटी देना अनिवार्य है। यही वजह है कि कोचिंग संस्थानों पर विभाग की पैनी नजर है।

औरंगाबाद से दिनानाथ मौआर की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News