गुंजन सिंह चुनी गयी फारबिसगंज की मुख्य पार्षद, तीन महीने से था पद खाली

गुंजन सिंह चुनी गयी फारबिसगंज की मुख्य पार्षद, तीन महीने से था पद खाली

अररिया. गुंजन सिंह फारबिसगंज नगर परिषद की मुख्य पार्षद निर्विरोध रुपये से चुनी गयी है. वहीं जबकि विपक्षी खेमे ने संख्या बल नहीं पूरा होने के चलते चुनावी प्रक्रिया में भाग ही नहीं लिया. इस कुर्सी के लिए तीन माह से खींचतान चल रहा था, जो आज खत्म हो गया है. इसके गुंजन सिंह को मुख्य पार्षद के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गयी है.

विपक्षी खेमे के पार्षद रहे अनुपस्थित

नगर परिषद सभागार में चुनाव की प्रक्रिया दोपहर 11 बजे शुरू हुई. इसके बाद गुंजन सिंह की अगुवाई में 17 पार्षदों के जत्थे ने हॉल में प्रवेश किया. निर्वाचन प्रक्रिया के तहत अन्य पार्षदों का एक घंटे के अंदर प्रवेश करने के नियम के तहत इंतजार किया गया और एक घण्टे तक इंतजार करने के बाद विपक्षी खेमे के आठ पार्षद सभाकक्ष में नहीं पहुंचे. उसके बाद चुनाव की प्रक्रिया अपनाई गई, जिसमें गुंजन सिंह को निर्विरोध मुख्य पार्षद चुन लिया गया है.

23 अगस्त को पारित हुआ था अविश्वास प्रस्ताव

23 अगस्त को तत्कालीन चेयरमैन चंदा जयसवाल के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित हुआ था. तत्कालीन मुख्य पार्षद चंदा जयसवाल के क्रियाकलापों से व्यथित पार्षदों का एक गुट पूर्व उप मुख्य पार्षद मोतिउर रहमान उर्फ मोती खान के नेतृत्व में कार्यपालक पदाधिकारी को अविश्वास प्रस्ताव को लेकर ज्ञापन सौंपा था. 23 अगस्त को हुए विशेष बैठक में 17 पार्षदों ने मुख्य पार्षद के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव में अपनी सहमति दी थी और उसके बाद चंदा जायसवाल को मुख्य पार्षद के पद से हटना पड़ा था.

मुख्य पार्षद का लिटमस टेस्ट

निर्वाचित होने के बाद मुख्य पार्षद गुंजन सिंह ने कहा कि शहर के विकास के लिए वे कृत संकल्पित है और सबों को साथ रखते हुए साफ, सुंदर और स्वच्छ नगर की कल्पना को साकार करेंगी. उन्होंने बिना किसी भेदभाव के शहर के विकास के लिए प्रयत्नशील रहने की बात कही. उन्होंने कहा कि पार्षदों और शहरवासियों के विश्वास और भरोसा को वे टूटने नहीं देंगी और लूट खसोट की संस्कृति पर अंकुश लगाने की दिशा में प्रयत्नशील रहेंगी.


Find Us on Facebook

Trending News