हुजूर! अस्पताल में बिना पैसा लिए नही होता है प्रसव, अचानक अस्पताल निरीक्षण करने पहुंचे विधायक के सामने मरीज के परिजनों ने खोल दी व्यवस्था की पोल

हुजूर! अस्पताल में बिना पैसा लिए नही होता है प्रसव, अचानक अस्पताल निरीक्षण करने पहुंचे विधायक के सामने मरीज के परिजनों ने खोल दी व्यवस्था की पोल

MOTIHARI : पूर्वी चंपारण जिला के प्रशिद्ध बाबा सोमेश्वर नाथ महादेव नगरी स्थित अनुमंडलीय अस्पताल की व्यवस्था इतना दयनीय है कि अस्पताल प्रशासन के लापरवाही से मरीज परेशान है। अस्पताल में प्रसव के आने वाले मरीजों से बिना रुपया लिए प्रसव कक्ष में कोई काम नही होता। सूत्रों की माने तो प्रशव कक्ष की वसूली राशि मे सबका हिस्सा होता है।अनुमंडलीय अस्पताल होने के साथ साथ प्रसिद्ध महादेव मंदिर होने के बाद भी अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से कभी एक डॉक्टर के सहारे ओपीडी चलता है तो कभी दवा की ही कमी से मरीज परेशान रहते है। अस्पताल उपाधीक्षक से लेकर अधिकांश डाक्टर अनुमंडल मुख्यालय छोड़ जिला मुख्यालय में ही रात्रि पड़ाव रखते है।

दरअसल, यह पूरी शिकायत गोबिंदगंज विधायक सुनील मणि तिवारी से मरीजों के परिजनों ने की। विधायक जी बीते 15 अगस्त की रात अनुमंडलीय अस्पताल का निरीक्षण के लिए पहुंचे थे। जहां प्रसव कक्ष के पास खड़ी महिला से मरीज को मिलने वाली सुविधा की जनकारी ली गई। इतने में महिला ने कहा कि हुजूर प्रसव कक्ष में बिना रुपया दिए कोई काम नही होता है।अपने मन से कम रुपया देने के बाद अधिक रुपया की मांग किया जाता है। वहीं  बगल में खड़ी एक दूसरी महिला के द्वारा भी प्रसव कक्ष में मरीजों से रुपया लेने की शिकायत की गई। 

गुस्से में आग बबूला हुए एमएलए साहब 

परिजनों ने जिस तरह से अस्पताल की व्यवस्था की पोल खोली, उसे सुनने के बाद विधायक आग बबूला हो गए। अस्पताल उपाधीक्षक सहित अस्पताल कर्मियों को कड़ी चेतावनी देते हुए सुधार की नसीहत दिया गया। वहीं सरकार से मिलने वाली सभी सुविधा मरीजो को देने, डॉक्टर की 24 घंटा रोस्टर के अनुसार  उपस्थिति रखने का निर्देश अस्पताल उपाधीक्षक को दिया गया। उन्होंने अस्पताल के अधिकारियों को सख्त चेतावनी देते हुए कहा कि  वही अगली बार से प्रसव कक्ष में मरीजो से रुपया लेने की शिकायत मिली तो बर्दाश्त नही किया जाएगा।

अस्पताल में किया गया था भोज का आयोजन

सूत्रों की माने तो अस्पताल में 15 अगस्त पर भोज का आयोजन किया गया था। भोज में अनुमंडल स्तर के अधिकांस वरीय पदादिकारी उपस्थित थे। पदाधिकारी भोज का आनंद ले रहे थे।  इधर प्रसव कक्ष में आये गरीब मरीजो से पैसा की वसूली में अस्पताल प्रबंधन लगा हुआ था। विधायक के निरीक्षण में पहुचने व मरीजो से हाल जानने के बाद अस्पताल व्यवस्था का पोल खुला। 

Find Us on Facebook

Trending News