पटना में मुखिया पति ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर बार बालाओं के साथ 'जा जा जान भुला जइह' गाने पर लगाए ठुमके...

पटना में मुखिया पति ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर बार बालाओं के साथ 'जा जा जान भुला जइह' गाने पर लगाए ठुमके...

PATNA: पटना के मनेर में स्वतंत्रता दिवस की संध्या पर खानपुर पंचायत में बार बालाओं को आमंत्रित किया गया, जिसके बाद वहां अश्लीलता की हदें पार हो गई। हद तो यह है कि राष्ट्रीय पर्व के मौके पर इस तरह का आयोजन हुआ और इसमें मुखिया पति खुद बालाओं सहित थिरकते नजर आए। 

इस फूहड़ और अश्लील कार्यक्रम का आनंद लेने के लिए लोगों की भीड़ इतनी जुटी थी कि कोविड-19 कि यहां धज्जियां उड़ती नजर आई। रात भर अश्लील डांस और बार बालाओं के ठुमके की भनक स्थानीय थाना को नहीं लगी। स्थानीय लोग इसे पंचायत चुनाव की तैयारी को जोड़कर देख रहे हैं। ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार मनेर के खासपुर पंचायत के मुखिया प्रियंका देवी सहित उनके पति सह राजद के उपाध्यक्ष जय कुमार निराला के द्वारा पंचायत में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर बाल बालाओं के डांस का आयोजन किया गया। इस आयोजन में आधा दर्जन के आसपास बार बालाओं को बुलाया गया था। रात भर चले इस कार्यक्रम में जहां एक तरफ बार बालाओं ने हजारों लोगों के बीच जमकर ठुमके लगाए वहीं दूसरी तरफ सरकार के कड़े निर्देश के बावजूद भी कोविड-19 प्रोटोकॉल की यहां धज्जियां उड़ती नजर आई । 

ग्रामीणों का यह मानना है कि आने वाले पंचायत चुनाव को ध्यान में रखते हुए लोगों के मनोरंजन के लिए इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। सरकार ने जहां जनप्रतिनिधियों को यह जिम्मेदारियां दी है कि कोविड-19 में रखते हुए "2 गज दूरी, मास्क है जरूरी" का नारा देते हुए हैंड सैनिटाइजर सहित प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए कड़े निर्देश दिए हैं। इसके बावजूद भी सरकार के निर्देशों की यहां जमकर धज्जियां उड़ती नजर आई। कार्यक्रम में मनेर के विधायक भाई वीरेंद्र को मुख्य अतिथि के रुप में आमंत्रित किया गया था। रात भर चले इस कार्यक्रम की चर्चा करते हुए लोगों ने बताया कि आगामी पंचायत चुनाव में ग्रामीणों को अपने तरफ रिझाने के लिए मुखिया के द्वारा अभी से ही इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन कर लोगों को प्रभावित किया जा रहा है।

मनेर के थाना प्रभारी आलोक कुमार से इस मामले पर बात करने पर उन्होंने बताया कि उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि अगर किसी ग्रामीण के द्वारा इस मामले पर थाना में लिखित आवेदन दी जाती है तो वह इस पर संज्ञान लेंगे और कार्रवाई करेंगे। हालांकि अभी तक किसी व्यक्ति के द्वारा इस मामले में किसी तरह की कोई शिकायत थाना को प्राप्त नहीं हुई है। वहीं दूसरी तरफ खासपुर पंचायत के मुखिया प्रियंका कुमारी से इस मामले में बातचीत करने का प्रयास किया गया लेकिन वह उपलब्ध नहीं हो सकी। बहरहाल, जो भी हो लेकिन इतना तो तय है कि जिनके कंधे पर सरकार ने कोविड-19 प्रोटोकॉल की जिम्मेदारियां दी है वही लोग कोविड-19 प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

Find Us on Facebook

Trending News