लालू परिवार की बढ़ी मुश्किलें : संपत्ति छुपाने के आरोप में तेजप्रताप यादव पर FIR दर्ज, जानिये क्या है मामला

लालू परिवार की बढ़ी मुश्किलें : संपत्ति छुपाने के आरोप में तेजप्रताप यादव पर FIR दर्ज, जानिये क्या है मामला

पटना. हसनपुर से विधायक और राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप के खिलाफ समस्‍तीपुर जिले के रोसड़ा थाने में एफआइआर कराई गई है. उनपर 2020 के विधानसभा चुनाव में गलत शपथ पत्र दाखिल करने का आरोप लगाया गया है. हसनपुर विधानसभा के निर्वाची पदाधिकारी व डीसीएलआर सह एसडीओ ब्रजेश कुमार के आवेदन पर लोक प्रतिनिधित्‍व अधिनियम 1951 की धारा 125 क के तहत मामला दर्ज कराया गया है. उनपर संपत्ति छिपाने का आरोप है.

संपत्तियाें का गलत ब्‍योरा देने का आरोप 

प्राथमिकी ( 419/21) के अनुसार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण की अधिसूचना के तहत 140 हसनपुर विधानसभा क्षेत्र से राजद प्रत्‍याशी के रूप में 13 अक्‍टूबर 2020 को तेजप्रताप यादव ने नामांकन का पर्चा दाखिल किया था. इस दौरान उन्‍होंने शपथ पत्र में अचल संपत्ति की गलत जानकारी दी थी, यह इसकी शिकायत बिहार प्रदेश जदयू ने प्रदेश के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी से की थी. मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी ने इस शिकायत की प्रति चार नवंबर 2020 को भारतीय निर्वाचन आयोग को भेजी थी.

सीबीडीटी ने की मामले की जांच

इसके बाद भारतीय निर्वाचन आयोग ने इसके जांच के लिए केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) को लिखा. सीबीडीटी ने इस मामले की जांच कर अपने तीन पत्रों के माध्यम से बताया कि बिहार विधानसभा निर्वाचन 2015 और 2020 के लिए तेज प्रताप यादव की ओर से दाखिल किए गए शपथ पत्रों के बीच परिसंपत्तियों (चल व अचल) में 82,40867 रुपए की वृद्धि हुई, जबकि वित्तीय वर्ष 2015-16 से 2016-20 तक आयकर विवरणियों हिसाब से कुल आय 22,76220 रुपए बनती है.

गोपालगंज की संपत्ति का उल्लेख नहीं

जेडीयू की शिकायत में जिस संपत्ति का जिक्र किया गया है वह गोपालगंज जिले में बताया जा रहा है. सब-रजिस्ट्रार के रिकॉर्ड में तेज प्रताप यादव के नाम पंजीकृत है और इसका उल्लेख तेज प्रताप यादव ने शपथ पत्र में नहीं किया है. इसके बाद समस्तीपुर जिले के रोसड़ा थाने में उनके खिलाफ FIR दर्ज करायी गयी है.

Find Us on Facebook

Trending News