भारत-नेपाल मैत्री रेल परियोजना को मिलेगी रफ्तार : जयनगर-कुर्था के बीच आज ट्रेन का ट्रायल, जानिए कितना होगा किराया

भारत-नेपाल मैत्री रेल परियोजना को मिलेगी रफ्तार : जयनगर-कुर्था के बीच आज ट्रेन का ट्रायल, जानिए कितना होगा किराया

MADHUBANI : ट्रेन से नेपाल का सफर करने का सपना अब फिर से साकार होनेवाला है। आज भारत-नेपाल मैत्री रेल परियोजना के तहत जयनगर से कुर्था तक करीब 35 किमी में परिचालन का ट्रायल किया जाएगा। ट्रायल में नेपाल के रेल विभाग के अधिकारी भी शामिल होंगे। लगभग सात साल बाद ऐसा होगा, जब दोनों देशों के बीच ट्रेन का परिचालन होगा। बता दें कि वर्ष 2014 से जयनगर- जनकपुर के बीच ट्रेनों का परिचालन बंद था। परिचालन फिर से शुरू होने की संभावना से सीमावर्ती भारत व नेपाल क्षेत्र के लोगों में इसको लेकर उत्साह है।

सिर्फ जयनगर भारत में, बाकी स्टेशन नेपाल का हिस्सा

ट्रेन जयनगर, इनरवा, खजुली, वैदेही हाेते कुर्था तक पहुंचेगी। जयनगर को छोड़कर सभी स्टेशन नेपाली क्षेत्र में है। भारतीय क्षेत्र स्थित नेपाली स्टेशन से मात्र 4.5 किमी की दूरी पर बॉर्डर से सटे नेपाल का पहला स्टेशन इनरवा है। पूर्व में इनरवा हाॅल्ट था। जयनगर से खजुली स्टेशन 8.6 किमी, महिनाथपुर 14.15 किमी, वैदेही 18. 53 किमी, परवाहा 21.6 किमी, जनकपुर 29. 5 किमी अाैर कुर्था 34. 5 किमी की दूरी पर स्थित है। जनकपुर, महिनाथपुर और परवाहा हॉल्ट है।

किराए का भी हुआ निर्धारण

जयनगर-कुर्था वाया जनकपुर ब्रॉडगेज पर दौड़ने वाली डीएमयू ट्रेन में यात्री किराया को लेकर सस्पेंस अब खत्म हो गया है। जयनगर से जनकपुर स्टेशन तक 29.5 किमी का सफर करने के लिए नेपाल रेलवे ने किराया 60 नेपाली रुपए (भारतीय मुद्रा 37.50 रुपए) निर्धारित किया है। वहीं जयनगर से कुर्था तक 34.5 किमी सफर के लिए 70 नेपाली रुपए (भारतीय मुद्रा 43.75 रुपए) निर्धारित किया गया है। नेपाली रेलवे के सूत्रों ने बताया कि नेपाल ने 2 रुपए प्रति किमी की दर से रेल टिकट निर्धारित किया है। जयनगर-वर्दीवास रेलखंड पर दौड़ने वाली डीएमयू ट्रेन में एक एसी कोच है जिसमें कुल 56 सीटें है। सभी सीटें गद्देदार अाैर आरामदायक हैं। नेपाल रेलवे ने एसी कोच में सफर करने वाले यात्रियों के लिए 300 नेपाली रुपए (187.50 रुपए) भाड़ा निर्धारित किया है। इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि एसी कोच के लिए सभी स्टेशन या हाॅल्ट के लिए एक दर 300 नेपाली रुपए ही फिक्स किए गए हैं। यानी यात्री जयनगर-कुर्था रेलखंड पर स्थित किसी भी स्टेशन या हाॅल्ट के लिए एसी कोच का टिकट लेते है तो उन्हें नेपाली 300 रुपए ही किराया देना हाेगा।

इस माह के अंत तक परिचालन की तिथि की होगी घोषणा

जयनगर-कुर्था वाया जनकपुर रेलखंड पर एक जोड़ी नई डीएमयू ट्रेन का परिचालन होगा। एक डीएमयू में कुल 300 यात्रियों के बैठने का इंतजाम है। एक एसी कोच है जिसकी क्षमता 56 यात्रियों की है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एक ट्रेन दो फेरे लगाएगी। इस प्रकार से दो ट्रेनें पूरे दिन में चार फेरे लगाएगी। वहीं, नेपाल सरकार भी ट्रेन के परिचालन से संबंधित आवश्यक तैयारी पूरी करने में जुट गई है। सूत्रों ने बताया कि जुलाई के अंतिम सप्ताह तक परिचालन के तिथि की घोषणा होगी।   

भारत नेपाल के रिश्ते को मिलेगी मजबूती

यह रेल सेवा दोनों देश के लोगों की लाइफलाइन मानी जाती है। भारत के जयनगर से नेपाल के जनकपुर तक वर्ष 2014 तक नेपाली ट्रेनों का परिचालन हुआ है। जिसके बाद रूट पर नई रेल लाइन बिछाने के लिए परिचालन बंदकर कर दी गई.  भारत सरकार ने वर्ष 2010 में मैत्री योजना के तहत जयनगर से नेपाल के वर्दीवास तक 69.5 किमी की दूरी में नैरो गेज को मीटर गेज में बदलने व नयी रेल लाइन बिछाने को 548 करोड़ रुपये स्वीकृति दी थी। वर्ष 2012 में इरकॉन ने जयनगर में कैंप कार्यालय खोल कर इस योजना पर निर्माण कार्य शुरू किया। परियोजना में विलंब होने से लागत बढ़कर 800 करोड़ तक पहुंच गयी।



Find Us on Facebook

Trending News