तिहाड़ में चिदंबरम- जेल में लकड़ी के तख्त पर कटेंगीं रातें, मिलेगी दाल-रोटी, ओढ़ने को कंबल!

तिहाड़ में चिदंबरम- जेल में लकड़ी के तख्त पर कटेंगीं रातें, मिलेगी दाल-रोटी, ओढ़ने को कंबल!

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम अब अगले 14 दिन तिहाड़ जेल में बिताएंगे। आईएनएक्स मीडिया मामले में गुरुवार को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने पी चिदंबरम को 19 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इसके साथ ही यह तय होगा कि की इस दिग्गज नेता को अब अगले दो हफ्ते चारदिवारी के अंदर ही बिताने होंगे।

तिहाड़ की जेल नंबर 7 में आम तौर पर आर्थिक अपराध से जुड़े आरोपियों को रखा जाता है। अमूमन जेल नंबर 7 में पहुंचे कैदियों को जमीन पर ही सोने का इंतजाम होता है। जेल की तरफ से तीन-चार कंबल दिए जाते हैं। पी. चिंदबरम की उम्र चूंकि 60 साल से ज्यादा है। लिहाजा जेल मैनुअल के हिसाब से उन्हें लकड़ी का तख्त सोने के लिए दिया जाएगा। तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल ने बताया कि चिदंबरम को जेल नंबर 7 में एक अलग कोठरी में रखा जाएगा। खाने में उन्हें रोटी, दाल और सब्जी दी जाएगी। इसके अलावा उन्हें वेस्टर्न टॉइलट की भी सुविधा दी जाएगी। चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने अदालत से अपने मुवक्किल को जेल में वेस्टर्न टॉयलेट देने की मांग की थी, जिसे अदालत ने मंजूर कर लिया।

इससे पहले कोर्ट में बहस के दौरान बचाव और अभियोजन के पक्ष के बीच जोरदार जिरह हुई। पी चिदंबरम की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने उनकी न्यायिक हिरासत का विरोध किया। वहीं, सीबीआई की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता तुषार मेहता ने कोर्ट में दलील देते हुए कहा कि पी चिदंबरम एक प्रभावशाली व्यक्ति हैं और वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं, इसलिए उनकी न्यायिक हिरासत जरूरी है। इसके बाद कोर्ट ने चिदंबरम को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया।



Find Us on Facebook

Trending News