JDU ने BJP को दिया कड़ा मैसेज: RCP का तन यहां और मन कहीं और था, चिराग मॉडल की तरह 'रामचंद्र' मॉडल से 'नीतीश' को कमजोर करने की साजिश

JDU ने BJP को दिया कड़ा मैसेज: RCP का तन यहां और मन कहीं और था, चिराग मॉडल की तरह 'रामचंद्र' मॉडल से 'नीतीश' को कमजोर करने की साजिश

PATNA: JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने आज रामचंद्र के साथ-साथ भाजपा को भी बड़ा मैसेज दिया है। पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में jDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने पूर्व केंद्रीय मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि उनका मन कहीं और था और तन JDU में था। अगर मन यहां रहता है तो वह पूरे मनोयोग से काम करते। लेकिन वे तो ऐसा कर नहीं रहे थे।

चिराग के रस्ते चल पड़े थे आरसीपी

उन्होंने कहा कि 2020 के चुनाव में हमारे साथ छल किया गया। 2020 चुनाव में चिराग मॉडल लाकर नीतीश कुमार को कमजोर करने की साजिश रची गई। चिराग मॉडल की तरह आरसीपी मॉडल लाने की कोशिश की गई। लेकिन नीतीश कुमार ने इसे भाप लिया। ललन सिंह का यह बयान बताने के लिए काफी है की इशारा बीजेपी की ओर था। बिना नाम लिए जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने सहयोगी दल बीजेपी को साफ-साफ कह दिया है कि साजिश सफल नहीं होगी। ललन सिंह ने आगे कहा कि समय आने पर आरसीपी सिंह का मन कहां था,कहां-कहां साजिश और षडयंत्र रचा गया इसके बारे में भी बताएंगे। चिराग की तरह आरसीपी मॉडल से नीतीश कुमार को कमजोर करने के षड्यंत्र को हम लोगों ने भांप लिया।

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने आरसीपी पर करारा हमला बोलते हुए कहा कि उन्हें जेडीयू के abcd की जानकारी नहीं है। वे क्या जानते है समता पार्टी और जेडीयू के बारे में?आरसीपी सिंह के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने पर ललन सिंह ने तंज कसते हुए कहा कि माला लेकर गए और खुद पहन लिया. रामचंद्र प्रसाद सिंह द्वारा सीएम नीतीश कुमार को शाम में पांच बजे के बाद भूजा खाने पर पर ललन सिंह ने जवाब देते हुए कहा कि नीतीश कुमार भुजा खाते हैं, इस पर अभी आपत्ति है. नीतीश कुमार काम नहीं करते तो बिहार का विकाश कैसे हुआ. ललन सिंह ने कहा कि आरसीपी सिंह को देर सबेर जाना ही था. उनका तन यहां था और मन कही और था. इस लिए देर सबेर जाना ही था.. त्यागपत्र दे दिए, जहां मन करे चले जाइए,आप स्वतंत्र नागरिक हैं.

बता दें, 2020 के विधानसभा चुनाव में चिराग पासवान एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़े थे। चिराग पासवान का पूरे चुनाव के दौरान बीजेपी से हमदर्दी और नीतीश कुमार पर प्रहार जारी था। लोजपा ने खासकर जेडीयू कैंडिडेट के खिलाफ अपने उम्मीदवार दिये थे। बीजेपी के कई नेता भी लोजपा के टिकट पर जेडीयू कैंडिडेट के खिलाफ मैदान में उतरे थे। जेडीयू नेतृत्व यह मान कर चल रहा है कि हमारे खिलाफ साजिश रची गई। साजिश सहयोगी दल की तरफ से ही रची गई। निशाना सीधे तौर पर बीजेपी की तरफ होती है। जेडीयू का मानना है कि बीजेपी और चिराग पासवान के बीच मैच फिक्स था, नीतीश कुमार को कमजोर करने की साजिश रची गई। जेडीयू का मानना है कि हमारे कैंडिडेट हारे नहीं,बल्कि हराया गया. हमारी पकड़ कमजोर नहीं हुई बल्कि साजिश रची गई। 

Find Us on Facebook

Trending News